असम राइफल्स ने संघर्ष क्षेत्र में कौशल विकास केंद्र स्थापित किया

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। असम राइफल्स (दक्षिण) के आईजी मेजर जनरल आलोक नरेश ने मणिपुर के संघर्ष प्रभावित चुराचांदपुर जिले में एक कौशल विकास केंद्र का उद्घाटन किया है। यह अपनी तरह की पहली पहल है।
 | 
असम राइफल्स ने संघर्ष क्षेत्र में कौशल विकास केंद्र स्थापित किया नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। असम राइफल्स (दक्षिण) के आईजी मेजर जनरल आलोक नरेश ने मणिपुर के संघर्ष प्रभावित चुराचांदपुर जिले में एक कौशल विकास केंद्र का उद्घाटन किया है। यह अपनी तरह की पहली पहल है।

इस अवसर पर मौजूद अधिकारियों ने इसे असम राइफल्स द्वारा एसओओ (ऑपरेशंस का निलंबन) कार्डर्स को सशक्त बनाने के लिए उठाया गया एक ऐतिहासिक कदम बताया।

कौशल विकास केंद्र एक एसओओ शिविर में स्थापित किया गया है। इससे एसओओ कैडरों को मुख्यधारा में लाने की उम्मीद है।

Bansal Saree

मेजर जनरल आलोक नरेश ने कहा, इस पहल का प्रयास प्रशिक्षुओं को पेशेवर और सामाजिक क्षेत्र में अपने समकक्षों के साथ सफलतापूर्वक प्रतिस्पर्धा करने के लिए सशक्त बनाना है।

उन्होंने कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए उपकरणों की व्यवस्था में सहायता प्रदान करने के लिए जोमी रिवोल्यूशनरी ऑर्गनाइजेशन (जेडआरओ) के अधिकारियों, ह्यूमनिज्म फाउंडेशन और एनएसडीसी के साथ समन्वय किया।

30 दिनों का प्रशिक्षण कई चरणों में आयोजित किया जाएगा। बुधवार को शुरू हुए पहले चरण में सिलाई, बढ़ईगीरी और आईटी जैसे कौशल का प्रशिक्षण शामिल होगा। बाद के चरणों के लिए प्रशिक्षण को प्रशिक्षुओं के फीडबैक के आधार पर अन्य परिणामोन्मुखी कौशलों में अपग्रेड किया जाएगा।

Devi Maa Dental

नई पहल केंद्र की स्थापना मणिपुर सरकार और कुकी-जोमी विद्रोही समूहों के बीच एक त्रिपक्षीय समझौते की पृष्ठभूमि में की गई है, ताकि वार्ता को सक्षम बनाया जा सके और उग्रवाद को हल करने के लिए एक रूपरेखा तैयार की जा सके।

जोमी रिवोल्यूशनरी ऑर्गनाइजेशन (जेडआरओ) या जोमी रिवोल्यूशनरी आर्मी (जेडआरए) अगस्त 2005 में समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले विद्रोही समूहों में से एक था। एक छाता संगठन यूपीएफ को विद्रोही समूहों के लिए एक राजनीतिक मंच के रूप में स्थापित किया गया था और सभी आदिवासी विद्रोही समूहों को इसका हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित किया गया था।

इसके बाद, जेडआरओ अध्यक्ष यूपीएफ के पहले अध्यक्ष बने। अगस्त 2008 में अन्य विद्रोही समूहों ने भी शांति वार्ता की सुविधा के लिए सरकार के साथ एक समझौता किया।

त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर के परिणामस्वरूप, 17 सितंबर, 2010 को न्यू टीकोट में मुवनलाई कैंप नामक जेडआरए का पहला नामित एसओओ शिविर स्थापित किया गया था।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम