असम का युवक बांग्लादेश की हिरासत से 56 महीने बाद छूटा, घर लौटा

अगरतला, 13 सितंबर (आईएएनएस)। बांग्लादेशी जेल में साढ़े चार साल से अधिक समय तक रहने के बाद असम का युवक मुकुल हजारिका कई कूटनीतिक और प्रशासनिक प्रयासों के बाद सोमवार को भारत लौट आया।
 | 
असम का युवक बांग्लादेश की हिरासत से 56 महीने बाद छूटा, घर लौटा अगरतला, 13 सितंबर (आईएएनएस)। बांग्लादेशी जेल में साढ़े चार साल से अधिक समय तक रहने के बाद असम का युवक मुकुल हजारिका कई कूटनीतिक और प्रशासनिक प्रयासों के बाद सोमवार को भारत लौट आया।

पश्चिमी असम के दारांग जिले के होडापारा गांव का रहने वाले हजारिका को सोमवार को सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और बेलोनिया पुलिस को बॉर्डर गार्डस बांग्लादेश (बीजीबी) द्वारा भारत में बांग्लादेश सीमा पर त्रिपुरा के बेलोनिया चेक-पोस्ट के माध्यम से सौंपा गया, जहां से वह अपने घर लौट गया।

Bansal Saree

पेशे से एक रिक्शा चालक और तीन बच्चों का पिता हजारिका (35) अनजाने में फरवरी 2017 में बांग्लादेश चला गया, जहां उसे सुरक्षा बलों ने गिरफ्तार कर लिया। फिर एक स्थानीय अदालत ने उसे फेनी जेल में कैद कर दिया।

हजारिका के पिता फुलेश्वर हजारिका और असम पुलिस के जवान मंगलवार को त्रिपुरा सीमा पर लौटे व्यक्ति को लेने गए थे।

हजारिका ने सीमा पर मीडिया से कहा, बांग्लादेश जेल पुलिस ने मुझे जेल में प्रताड़ित किया। उन्होंने मुझे नियमित रूप से खाना नहीं दिया। तीन साल की जेल की सजा पूरी करने के बाद, उन्होंने मुझे असम में अपने घर वापस नहीं आने दिया।

बांग्लादेश में हजारिका की उपस्थिति पहली बार 2019 में ज्ञात हुई, जब बांग्लादेश में भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों ने असम सरकार को सूचित किया कि वह फेनी जेल में बंद है।

Devi Maa Dental

फुलेश्वर हजारिका ने मीडिया को बताया कि वरिष्ठ नौकरशाहों और दरंग जिले के पुलिस अधीक्षक सुशांत बिस्वा सरमा ने हजारिका को रिहा करने और उनके घर वापस लाने में सक्रिय भूमिका निभाई।

--आईएएनएस

एसजीके