खेतों से शुरू होगी कुपोषण के खिलाफ जंग, मक्का बनेगा जरिया

लखनऊ, 12 मई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश सरकार ने कुपोषण को दूर करने के लिए खेतों से ही लड़ाई की शुरूआत कर दी है। दलहन और तिलहन के बाद प्रचुर मात्रा में पाए जाने वाले पोषक तत्वों से भरपूर मक्का इसका जरिया बनने जा रहा है। राज्य में 2021-2022 में मक्के का उत्पादन 14.67 लाख मेट्रिक टन था। पांच साल में इसे बढ़ाकर 27.30 मेट्रिक टन करने का लक्ष्य है।
 | 
खेतों से शुरू होगी कुपोषण के खिलाफ जंग, मक्का बनेगा जरिया लखनऊ, 12 मई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश सरकार ने कुपोषण को दूर करने के लिए खेतों से ही लड़ाई की शुरूआत कर दी है। दलहन और तिलहन के बाद प्रचुर मात्रा में पाए जाने वाले पोषक तत्वों से भरपूर मक्का इसका जरिया बनने जा रहा है। राज्य में 2021-2022 में मक्के का उत्पादन 14.67 लाख मेट्रिक टन था। पांच साल में इसे बढ़ाकर 27.30 मेट्रिक टन करने का लक्ष्य है।

हर मौसम (रबी, खरीफ एवं जायद) और हर तरह की भूमि में होने वाले मक्के का जवाब नहीं। यही वजह है कि योगी सरकार ने मक्के का उत्पादन पांच साल में दोगुना करने का लक्ष्य रखा है। फिलहाल 2021-2022 में मक्के का उत्पादन 14.67 लाख मेट्रिक टन था। पांच साल में इसे बढ़ाकर 27.30 मेट्रिक टन करने का लक्ष्य है। इसके लिए रकबा बढ़ाने के साथ प्रति हेक्टेयर प्रति कुंतल उत्पादन बढ़ाने पर भी बराबर का जोर होगा।

krishna hospital

यूपी में 2021-2022 में 6.91 लाख हेक्टेयर में मक्के की खेती हुई। 14.67 लाख मेट्रिक टन उत्पादन हुआ। प्रदेश में इसकी उपज बढाने की भरपूर संभावना है। देश और यूपी की प्रति हेक्टेयर औसत उपज क्रमश: 2600 एवं 1788 किलोग्राम है। 2021-22 में यह बढ़कर 2163 कुंतल हो गई। सर्वाधिक उत्पादन वाले तमिलनाडु की औसत उपज 5939 कुंतल है। विषेषज्ञों की माने तो प्रति हेक्टेयर औसत उपज 100 कुंतल तक संभव है। अमेरिका में प्रति हेक्टेअर उत्पादन करीब 960 कुंतल है। ऐसे में खेती के उन्नत तरीके से उपज बढ़ाने की भरपूर संभावना है।

मालूम हो कि मक्के का प्रयोग ग्रेन बेस्ड इथेनॉल उत्पादन करने वाली औद्योगिक इकाइयों, कुक्कुट एवं पशुओं के पोषाहार, दवा, कास्मेटिक, गोंद, वस्त्र, पेपर और एल्कोहल इंडस्ट्री में भी होता है। इसके अलावा मक्के को आटा, धोकला, बेबी कार्न और पाप कार्न के रूप में भी खाया जाता है। किसी न किसी रूप में ये हर सूप का अनिवार्य हिस्सा है। ये सभी क्षेत्र संभावनाओं वाले हैं। आने वाले समय में इनके विस्तार के साथ ही मक्के की मांग भी बढ़ेगी। इस बढ़ी मांग का अधिक्तम लाभ प्रदेश के किसानों को हो इसके लिए सरकार मक्के की खेती के प्रति किसानों को जागरूक करेगी। उनको खेती के उन्नत तौर तरीकों की जानकारी देने के साथ सीड रिप्लेसमेंट (बीज प्रतिस्थापन) की दर को भी बढ़ाएगी। किसानों को मक्के की उपज का वाजिब दाम मिले इसके लिए सरकार पहले ही इसे न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के दायरे में ला चुकी है।

विषेषज्ञों के अनुसार मक्के में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। इसमें कार्बोहाइड्रेड, शुगर, वसा, प्रोटीन, फाइबर, विटामिन और मिनरल मिलता है। इस लिहाज से मक्के की खेती कुपोषण के खिलाफ जंग साबित हो सकती है। इन्हीं खूबियों की वजह से मक्के को अनाजों की रानी कहा गया है।

मक्के की खेती में एक बात का खयाल रखें कि फूल आने के समय तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक न हो। इससे अधिक तापमान होने पर दाने नहीं पड़ते। अगर सिंचाई की सुविधा हो तो फरवरी के दूसरे हफ्ते में आलू, सरसों और सब्जी की फसलों से मक्का बो सकते हैं। साथ में सह फसल के रूप में जायद की मूंग और उड़द की भी फसल ले सकते हैं। इससे सिर्फ 70-80 दिन में प्रोटीन से भरपूर दलहन की एक अतिरिक्त फसल तो मिलेगी ही। दलहनी फसलों की जड़ों में नाइट्रोजन स्थिर करने की खूबी का जो लाभ भूमि को मिलेगा, वह अतिरिक्त होगा।

क्रील सिस्टम इनीसिएटिव फार साउथ एशिया (सीसा) के वैज्ञानिक डा.अजय ने बताया कि किसान, कृषि जलवायु क्षेत्र के अनुसार उन्नत प्रजातियों की बोआई करें। डंकल डबल, कंचन 25, डीकेएस 9108, डीएचएम 117, एचआरएम-1, एनके 6240, पिनैवला, 900 एम और गोल्ड आदि प्रजातियों की उत्पादकता ठीकठाक है। वैसे तो मक्का 80-120 दिन में तैयार हो जाता है। पर पापकार्न के लिए यह सिर्फ 60 दिन में ही तैयार हो जाता है।

--आईएएनएस

विकेटी/एसकेपी