यूपी में अब खिल जाएंगे मोदी विरोधियों के चेहरे, खबर ही कुछ ऐसी है, चुनाव आयोग ने दी ऐसी सौगात

80
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

लखनऊ- न्यूज टुडे नेटवर्क। चुनाव के दौरान इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन(ईवीएम) को लेकर कई बार शिकायते सामने आ चुकी है। इन शिकायतों में कहा गया कि ईवीएम द्वारा विशेष प्रत्याशी को ही वोट जाता है। इस लिए अब भारत निर्वाचन आयोग ने यूपी को भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) की 1.70 लाख वीवीपैट मशीनें आवंटित की हैं। अगले महीने से इसकी आपूर्ति भी शुरू हो जाएगी। खास बात यह है कि कैराना व नूरपुर के उपचुनाव में धोखा देने वाली वीवीपैट आगामी लोकसभा चुनाव में यूपी में उपयोग में नहीं लाई जाएंगी। इस लिए अब वर्ष 2019 का लोकसभा चुनाव यूपी में नई वीवीपैट मशीनें लगाकर होगा।

vvpat

जब उपचुनाव में वीवीपैट मशीन ने दिया धोखा

ईवीएम पर उठ रहे सवालों को देखते हुए चुनाव आयोग ने कुछ समय पहले ही वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव वीवीपैट लगाकर करने का निर्णय लिया है, लेकिन सोमवार को कैराना संसदीय क्षेत्र व नूरपुर विधानसभा क्षेत्र में हुए उपचुनाव में वीवीपैट धोखा दे गईं। इससे सभी दलों को चिंतित होना लाजमी है। यहां पर 2056 पोलिंग बूथ में से 384 वीवीपैट खराब हो गए। भीषण गर्मी के कारण इसमें लगे सेंसर ने काम करना बंद कर है। इस कारण वीवीपैट हैंग कर गईं।

ईवीएम भी बीईएल कंपनी की रहेंगी

खराब हुई मशीनें कुल लगी वीवीपैट का 18 फीसद से भी अधिक है। जो वीवीपैट खराब हुईं, वह इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ईसीआइएल) की हैं। गोरखपुर संसदीय सीट के उपचुनाव में भी 25-30 पोलिंग बूथ पर वीवीपैट खराब हुए थे। उसमें भी ईसीआइएल के वीवीपैट लगे थे। इसको देखते चुनाव आयोग ने यूपी में नई वीवीपैट के साथ चुनाव कराने का निर्णय लिया है। उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी रत्नेश सिंह ने बताया कि प्रदेश को आगामी लोकसभा चुनाव के लिए 1.70 लाख नई वीवीपैट मिलेंगी। सभी बीईएल कंपनी की हैं। इस कंपनी की वीवीपैट की खराबी की सूचना अभी तक नहीं मिली है। ईवीएम भी बीईएल कंपनी की रहेंगी।

VVPAT (1)

इंजीनियरों से मांगी जाएगी रिपोर्ट

चुनाव आयोग खराब होने वाली वीवीपैट के इंजीनियरों से इसकी टेक्नीकल रिपोर्ट तलब करेगा। यह वीवीपैट ईसीआइएल कंपनी की हैं। पुनर्मतदान निपटने के बाद इसके इंजीनियरों से विस्तृत रिपोर्ट ली जाएगी। रिपोर्ट आने के बाद इसकी कमियों को दूर किया जाएगा।

क्या है वीवीपैट

  • वीवीपैट मशीन इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के साथ जुड़ी रहेगी।
  • इसके जरिये मतदाता को अपने मत के सही प्रत्याशी को जाने का प्रमाण मिल जाएगा।
  • मतदाता ईवीएम पर उंगली दबाकर वोट डालेगा और वीवीपैट मशीन से निकलने वाली सत्यापन पर्ची इसे स्पष्ट कर देगी।
  • इस पर्ची को कुछ देर के लिए वीवीपैट की स्क्रीन पर देखा जा सकेगा।
  • इस पर प्रत्याशी का चिह्न और नंबर अंकित होगा।