newstodaynetwork Banner

Bareilly-कोविड टीकाकरण के तीसरे फेज में बॉलीवुड एक्ट्रेस दिशा पाटनी के पिता ने लगवाई वैक्‍सीन

न्यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। कोविड-19 का तीसरा चरण सोमवार को बरेली की आम जनता को टीका लगने के साथ शुरू हो गया। शाम 4 बजे तक खुश्लोक हॉस्पिटल में 60 पुरुष, जिला अस्पताल में 79 और यूपीएचसी सिविल लाइन में 26 व्यक्तियों को कोविड-19 से प्रतिरक्षित किया जा चुका था। सोमवार को बॉलीवुड एक्ट्रेस दिशा
 | 
Bareilly-कोविड टीकाकरण के तीसरे फेज में बॉलीवुड एक्ट्रेस दिशा पाटनी के पिता ने लगवाई वैक्‍सीन

न्‍यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। कोविड-19 का तीसरा चरण सोमवार को बरेली की आम जनता को टीका लगने के साथ शुरू हो गया। शाम 4 बजे तक खुश्लोक हॉस्पिटल में 60 पुरुष, जिला अस्पताल में 79 और यूपीएचसी सिविल लाइन में 26 व्यक्तियों को कोविड-19 से प्रतिरक्षित किया जा चुका था। सोमवार को बॉलीवुड एक्‍ट्रेस दिशा पाटनी के पिता जगदीश पाटनी भी वैक्सीन लगवाने जिला अस्पताल पहुंचे।

उन्होंने बताया कि अपने देश की बनी वैक्सीन बहुत ही सुरक्षित है। उसे लगवाने का मौका अगर आम जनता को दिया जा रहा है तो जरूर लगवाना चाहिए। मैंने बिना किसी ही घबराहट और संकोच के टीका लगवाया है और आधे घंटे बाद भी मुझे किसी तरह की कोई परेशानी का एहसास नहीं हुआ।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने किया निरीक्षण

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. आरएन सिंह ने जिला अस्पताल और  खुशलोक अस्पताल का निरीक्षण कर वहां की व्यवस्था की जांच की। डॉ. सिंह ने बताया कि 4 मार्च को 45 से 59 और 60  वर्ष के ऊपर के व्यक्तियों का  टीकाकरण कराया जाएगा। उसी दिन उन व्यक्तियों को भी सेकंड डोज लगेगी जिन्हें कोविड-19 से 4 फरवरी को प्रतिरक्षित किया गया था। 4 तारीख को टीकाकरण के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है। लोग इस टीकाकरण का लाभ उठा सकें और इस बीमारी से उनका बचाव हो सके।

ये लोग लगवा सकेंगे टीका

जो लोग 1 जनवरी 2022 को 60 बर्ष के हो रहे हैं वे सभी यह वैक्सीन लगवाने के लिए पात्र हैं। इसी प्रकार वे लोग जो 1 जनवरी 2022 को 45 वर्ष के हो रहे हैं और गम्भीर बीमारी से पीड़ित हैं।

अपने डॉक्टर से साइन किया हुआ सर्टिफिकेट जरूरी

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. आरएन सिंह ने बताया कि चरण में 35 से 59 वर्ष  के बीमार व्यक्तियों और 60 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों का टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 45 से 59 वर्ष के बीमार व्यक्तियों के लिए एक विशेष सर्टिफिकेट तैयार किया गया है। जिसमें उनकी बीमारी की सारी जानकारी होगी। इस सर्टिफिकेट पर रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर के साइन होंगे और टीकाकरण के वक्त यह सर्टिफिकेट टीकाकरण केंद्र में जांचकर्ता को देना होगा। इसी सर्टिफिकेट के आधार पर उस व्यक्ति का रजिस्ट्रेशन होगा और व्यक्ति का टीकाकरण किया जाएगा। डॉ. सिंह ने बताया कि अगर यह फॉर्म किसी को उपलब्ध नहीं हो पाता है तो इस सर्टिफिकेट की जानकारी को टाइप करा कर भी कार्य में लाया जा सकता है।