newstodaynetwork Banner

बरेली: सरकारी कार्यालयों में हाजिरी का होगा औचक निरीक्षण, मुख्‍य सचिव के माध्‍यम से जिलाधिकारी को भेजा गया पत्र

न्यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। सरकारी विभागों में देरी से आने वाले कर्मचारियों को अब कठिनाईयों का सामना करना होगा। सरकार अब लेटलतीफों पर सख्ती के मूड में है जिसके क्रम में सरकारी दफ्तरों औचक निरीक्षण का आदेश पारित हुआ है। विकास भवन, नगर निगम सहित तमाम सरकारी कार्यालयों में सुबह 10:00 बजे के बजाय लेटलतीफी
 | 
बरेली: सरकारी कार्यालयों में हाजिरी का होगा औचक निरीक्षण, मुख्‍य सचिव के माध्‍यम से जिलाधिकारी को भेजा गया पत्र

न्‍यूज टुडे नेटवर्क, बरेली। सरकारी विभागों में देरी से आने वाले कर्मचारियों को अब कठिनाईयों का सामना करना होगा। सरकार अब लेटलतीफों पर सख्‍ती के मूड में है जिसके क्रम में सरकारी दफ्तरों औचक निरीक्षण का आदेश पारित हुआ है।

विकास भवन, नगर निगम सहित तमाम सरकारी कार्यालयों में सुबह 10:00 बजे के बजाय लेटलतीफी से आने वाले सरकारी कर्मचारियों को अब आदत में सुधार करना होगा। मुख्य सचिव के माध्यम से डीएम को दिए गए निर्देश में कहा गया है कि दफ्तरों में नियमित हाजिरी का औचक निरीक्षण किया जाए। शासन की इस प्रक्रिया से जिलाधिकारी ने सभी सरकारी विभागों को शासन की इस मंशा से अवगत कराया है। विभागाध्यक्ष द्वारा निर्धारित समय के बाद आने वाले कर्मचारियों की सर्विस बुक में संस्तुति की जा सकती है।

जिससे फरियादियों को न हो परेशानी

सरकारी दफ्तरों में अक्सर बायोमेट्रिक हाजिरी लगाने के बाद भी विभागीय कर्मचारी पटल पर मौजूद ना होकर बाहर खड़े देखे जा सकते हैं जिससे फरियादियों को बैरंग लौटना पड़ता है। जनप्रतिनिधियों के माध्यम से शासन को पहुंच रही शिकायतों के बाद मुख्य सचिव ने प्रदेश भर के सभी जिलाधिकारियों को पत्र जारी करते हुए लापरवाह कर्मचारियों का डाटा तैयार कर शासन को भेजने के लिए कहा है। वहीं सीडीओ ने ब्लॉक अफसरों को भी अवगत कराते हुए कहा कि औचक निरीक्षण में लेटलतीफी पाए जाने पर वेतन रोकने के साथ-साथ विभागीय कार्यवाही का भी सामना करना पड़ सकता है।

मैनुअल रजिस्टर भी होंगे चेक

जिन विभागों में बायोमेट्रिक हाजिरी नहीं है और रजिस्टर में हाजिर लग रही है उनको भी निर्धारित समय का पालन करने को कहा गया है। मैनुअल रजिस्टर नियमित चेक किए जाएंगे। शिक्षा विभाग सहित कई सरकारी विभागों में मैनुअल रजिस्टर से लगने वाली हाजिरी का डाटा हर दिन तैयार करके विभागाध्यक्ष के माध्यम से जिलाधिकारी व सीडीओ को भेजा जायेगा।