उत्तराखंड़: आखिरी दम तक देवभूमि के लाल ने चटाई पाकिस्तानी आतंकियों को धूल, अंतिम विदाई में उमड़ा जनसैलाब

26
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

देहरादून- देवभूमि के एक और लाल ने भारत माँ की रक्षा की खातिर अपने प्राणों की बाजी लगा दी। और पाकिस्तानी आतंकियों को आखिरी दम तक घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। जम्मू कश्मीर के सुजवां में 2 दिन पहले हुए आतंकी हमले के दौरान जवान राकेश रतूड़ी घायल हो गए। जिसके बाद उन्हें उपचार के लिए सेना के अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली।

Shaheed Rakesh Raturi
शहीद हवलदार राकेश रतूड़ी

पत्नी और 2 बच्चों को अकेला छोड़ गये राकेश

मूलरूप से पौड़ी गढ़वाल के पाबौ ब्लॉक की बाली कंडारस्यूं पट्टी स्थित सांकर सैंण गांव के रहने वाले हवलदार राकेश रतूड़ी(44 वर्ष) ने सालभर पहले ही प्रेमनगर के बड़ोवाला में घर बनाया था। वह अपने पीछे पत्नी नंदा देवी और दो बच्चों नितिन और किरण को छोड़ गए हैं। उनका बेटा नितिन (17 वर्ष) एसजीआरआर पटेलनगर में कक्षा 11 का छात्र है। जबकि बेटी किरण (19 वर्ष) पत्राचार से बीए कर रही।

3 दिन से नही उठ रहा था जवान राकेश को फोन

शहीद के चाचा शेखरानंद रतूड़ी ने बताया कि महार रेजीमेंट में तैनात राकेश साल 1996 में फौज में भर्ती हुए थे। उनकी शिक्षा राइंका सांकर सैंण में हुई। वह 3 जनवरी को छुट्टी पर आए थे और 9 जनवरी को वापस चले गए। पिछले 3 दिन से उनका फोन नहीं उठ रहा था। जिस कारण परिवार चिंतित था। लेकिन बीते रोज उन्हें राकेश की शहादत की खबर मिली।

जनसैलाब ने किया शहादत को सलाम

आज देहरादून के शिमला बाईपास बडोवाला स्थित घर से शहीद की अंतिम यात्रा निकली। इसमें जनसैलाब उमड़ पड़ा। इस दौरान पाकिस्तान मुर्दाबाद और भारत सरकार पाकिस्तान को जवाब दो के नारे लगे। लोगों में पाकिस्तान को लेकर भारी रोष दिखा। साथ ही राकेश रतूड़ी अमर रहे, रतूड़ी तेरा ये बलिदान याद रखेगा हिन्दुस्तान जैसे नारे लगे। भारतीय सेना जिंदाबाद के नारों के बीच शहीद का पार्थिव शरीर गाड़ी से हरिद्वार के लिए रवाना हुआ।

शहीद हवलदार राकेश रतूड़ी को श्रद्धांजलि देते सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, उच्च शिक्षा राज्यमंत्री धन सिंह रावत, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, मेयर एवं धर्मपुर विधायक विनोद चमोली , हरिद्वार सांसद डा रमेश पोखरियाल निशंक, मसूरी विधायक गणेश जोशी, सहसपुर विधायक सहदेव पुंडीर, उपाध्याक्ष सूर्यकांत धस्माना, डीएम एसए मुरुगेशन, एसएसपी निवेदिता कुकरेती समेत तमाम जनप्रतिनिधियों और सेना-पुलिस के अफसरों ने शहीद के पार्थिव शरीर को श्रद्धांजलि दी।