रामनगर- जाने क्यों हरीश रावत ने सीएम त्रिवेन्द्र को बताया बिमार, सोशल मीडिया में लिखी ये बात

पूर्व सीएम हरीश रावत ने रामनगर के अस्पताल में युवक की मौत के मामले में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत तथा पूर्व सीएम विजय बहुगुणा पर निशाना साधा है। रामनगर के संयुक्त चिकित्सालय को प्रदेश सरकार ने हाल ही में चार साल के लिए पीपीपी मोड पर एक कंपनी को ठेके पर दिया है। बताया जाता
 | 
रामनगर- जाने क्यों हरीश रावत ने सीएम त्रिवेन्द्र को बताया बिमार, सोशल मीडिया में लिखी ये बात

पूर्व सीएम हरीश रावत ने रामनगर के अस्पताल में युवक की मौत के मामले में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत तथा पूर्व सीएम विजय बहुगुणा पर निशाना साधा है। रामनगर के संयुक्त चिकित्सालय को प्रदेश सरकार ने हाल ही में चार साल के लिए पीपीपी मोड पर एक कंपनी को ठेके पर दिया है। बताया जाता है कि सरकार निजी कंपनी को हर महीने 2.98 लाख रुपये अस्पताल के संचालन के लिए दे रही है।

Devi Maa Dental

स्वास्थ्य सेवाओं का भगवान की मालिक- हरदा

जानकारी मुताबिक पीपीपी मोड पर संचालित इस अस्पताल पर लोग इलाज में लापरवाही बरतने के आरोप लगा रहे है। हाल ही में इलाज के दौरान यहां एक युवक की मौत हो गई थी। चिकित्सालय की व्यवस्था पर सवाल खड़े करते हुए पूर्व सीएम हरीश रावत ने सोशल मीडिया में लिखा है कि जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी और विजय बहुगुणा सीएम थे। तब विजय बहुगुणा कुछ अस्पतालों को पीपीपी मोड पर देने का अभिशाप छोड़कर गए थे।

रामनगर- जाने क्यों हरीश रावत ने सीएम त्रिवेन्द्र को बताया बिमार, सोशल मीडिया में लिखी ये बात

Bansal Saree

उनका कहना है सीएम बनने के बाद पीपीपी मोड के इन अस्पतालों की वजह से उन्हें काफी तकलीफ उठानी पड़ी थी। अब बहुगुणा ने पीपीपी मोड की यह बीमारी सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत तक भी पहुंचा दी है। रामनगर का सरकारी चिकित्सालय अब तक लोगों को स्वास्थ्य सेवाएंदेने का काम कर रहा था। लेकिन अब उसकी हालत खराब दिखाई दे रही है। यदि यही पीपीपी मोड का मॉडल है तो फिर स्वास्थ्य सेवाओें का भगवान ही मालिक है। उनकी इस पोस्ट पर कई लोगों ने टिप्पणी भी की है।

यहाँ भी पढ़े

हल्द्वानी- रक्षाबंधन में सरकार का बड़ा तोहफा, महिलाओं को मिलेगी ये सुविधा

ऋषिकेश- लापरवाही की भेंट चड़ी 3 जिन्दगी, इस कंपनी के अधिकारियों के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

देहरादून- रक्षाबंधन में डाक विभाग ने उठाया ये महत्तपूर्ण कदम, बहनों की खातिर ऐसे मेहनत कर रहे पोस्टमैन