अल्मोड़ा क्षेत्र में पर्यटन के विकास को लगेंगे पंख, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने सुनाई ये खुशखबरी

284
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

देहरादून- न्यूज टुडे नेटवर्क: केंद्रीय पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस से मुलाकात के बाद उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि केंद्र से मिली 65 करोड़ की सहायता मिली है। उत्तराखंड और खास तौर पर अल्मोड़ा क्षेत्र में पर्यटन के विकास के लिए केंद्र सरकार 65 करोड़ की धनराशि देगी, जो कटारमल, जागेश्वर, बागेश्वर में खर्च की जाएगी। केन्द्रीय पर्यटन मंत्री के. जे. अल्फोंस से मुलाकात के दौरान राज्यसभा सांसद अजय टम्टा भी मौजूद रहे।

देवभूमि में बनेगा बुद्धिस्ट सर्किट

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि उत्तराखंड में बुद्धिस्ट सर्किट बनाने की हमारी योजना है। जिसके लिए इसी महीने की 26 तारीख को मैराथन बैठक देहरादून में की जाएगी। जिसके बाद बुद्धिस्ट सर्किट से जुड़े क्षेत्रों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा।

प्रदेश में रामायण और महाभारत सर्किट की भी है योजना

रामायण सर्किट की शुरुआत उत्तर प्रदेश के अयोध्या से होती है, लेकिन उत्तराखंड के ऋषिकेश में भी रामायण से जुड़े क्षेत्र है। ऋषिकेश में ही भरत मंदिर है, जहां पर भगवान राम की खड़ाऊ भरत और शत्रुघ्न लेने आए थे। माता सीता भी उत्तराखंड में ही धरती में समाई थी और वहां वाल्मीकि मंदिर भी है। वही महाभारत सर्किट की सभी महत्वपूर्ण स्थान उत्तराखंड में है, लिहाजा रामायण सर्किट के तहत उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड और महाभारत सर्किल के लिए उत्तराखंड में निर्माण करने की योजना है।

स्वदेश दर्शन के तहत होगा विकास

पर्यटन मंत्री ने कहा कि अल्मोड़ा क्षेत्र में कई धार्मिक पर्यटन से जुड़े क्षेत्रों के लिए स्वदेश दर्शन के तहत उनका विकास किया जाएगा। देवधूरी, बैजनाथ कटारमल इनमें शामिल है। इन क्षेत्रों के विकास के लिए हमें आरके लॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया और फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के एनओसी की जरूरत पड़ती है, फिर भी करीब 40% काम किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें-पहाड़ की प्रकृति का मजा लेना है तो चले आएं नौकुचियाताल, कम दामों में मिलेंगी ये लग्जरी सुविधाएं…

यह भी पढ़ें-उत्तराखंड़- नैनीताल घूमने आएं , तो यहाँ मिलेंगे सस्ते होटल

सेंट्रल आईएचएम की हो स्थापना

मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि उत्तराखंड में अभी इंस्टिट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट स्थापित है, लेकिन हम चाहते हैं कि यह केंद्रीय आई एच एम के तौर पर कार्य करें। पूर्व पर्यटन मंत्री जगमोहन जी के कार्यकाल से यह मांग चल रही है। हमारी कोशिश है कि इस मांग पर जल्दी अमल किया जाएगा।