VIDEO: हल्द्वानी- आखिर कौन है ट्रांसपोर्टर की मौत का जिम्मेदार ? परिवार के आंसू पूछ रहे हैं सवाल

Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- संजय पाठक:  बीते शनिवार को देहरादून भाजपा कार्यालय में कृषि मंत्री सुबोध उनियाल के जनता दरबार में जहर खाकर पहुंचे ट्रांसपोर्टर प्रकाश पाण्डे आखिरकार जिंदगी की जंग हार गये। आज देहरादून के मैक्स हॉस्पिटल में उन्होंने आंखिरी सांस ली।

जनता दरबार में जहर खाकर पहुंचे ट्रांसपोर्टर को तुरंत अस्पताल ले जाया गया (फाईल फोटो)

प्रदेश की सियासत में भूचाल लाने वाले इस प्रकरण के सामने आने के बाद हर कोई यही दुआ कर रहा था कि पीडित व्यापारी की जान बच जाये, लेकिन ऐसा ना हो सका। जैसे ही इस घटना का पता काठगोदाम स्थित घर में परिजनों को लगा तो मातम पसर गया। चारों तरफ चीख- पुकार मचने लगी। रोते बिलखते परिजनों को ढांढस बंधाने पूरा शहर उमड़ पड़ा।

कौन देगा बूढ़ी मां के आंसूओं का जवाब- VIDEO

रोते रोते बूढी माँ बोली – च्यैला तू कां न्है गोछे (बेटा तू कहाँ चला गया)

जैसे ही मृतक प्रकाश की बूढी माँ को पता चला कि उसके लाड़ले प्रकाश ने दुनिया को अलविदा कह दिया है , बूढी मां के आंसू चीख पुकार के साथ निकल पड़े। बूढी माँ रोते रोते बस एक ही बात कह रही थी – पप्पू च्यैला तू कां न्है गोछे (पप्पू बेटा तू कहाँ चला गया )। अपने लाड़ले के लिए बूढी मां को रोते बिलखते जिसने भी देखा , उसके भी आंसू  निकल पड़े। यही हाल मृतक की पत्नी कमला पांडे और बच्चों का भी था। परिवार का हर सदस्य रोते रोते बस एक ही बात कह रहा है कि कोई उनके प्रकाश को वापस ले आओ।

सियासत भी पहुंची प्रकाश के घर

कारोबार में घाटे के चलते जहर खाने को मजबूर प्रकाश पाण्डे भले ही जिंदगी की लड़ाई भी हार गये हों लेकिन उनकी मौत ने प्रदेश की सियासत को मुद्दा जरूर दे दिया। जैसे ही प्रकाश की मौत की खबर हल्द्वानी पहुंची तो नेताओं का जमघट भी प्रकाश के घर में लग गया। क्या छोटा -क्या बड़ा हर नेता प्रकाश के घर सांत्वना देने पहुंचा।

पीड़ित परिवार को सांत्वना देने पहुंचे मंडी समिति के अध्यक्ष सुमित हृदयेश ने कहा कि भाजपा सरकार की गलत नीतियों को मरने से पहले पीड़ित प्रकाश पाण्डे ने उजागर किया था। ऐसे में उनकी मौत के लिए भाजपा सरकार की गलत नीतियाँ ही जिम्मेदार हैं। यही वजह है कि पीड़ित ने जीएसटी और नोटबंदी के खिलाफ आवाज बुलंद की थी। उन्होंने कहा कि एक तरफ पीड़ित ट्रांसपोर्टर जहर खाकर मंत्री के जनता दरबार में पहुंचा था तो दूसरी तरफ भाजपाई उसके ऊपर विवादास्पद टिप्पणियाँ करने से भी बाज नही आ रहे थे। यह घटना भाजपा के जनता विरोधी चरित्र को उजागर करती है।

वहीं पीड़ित परिवार को सांत्वना देने पहुंचे मेयर डॉ. जोगेन्द्र पाल सिंह रौतेला ने कहा कि मृतक प्रकाश पाण्डे उनके क्षेत्र से ही आते हैं ऐसे में उनके इस आत्मघाती निर्णय से उनका गहरा दुख पहुंचा है। एक सवाल के जवाब में मेयर ने कहा कि भले ही जहर खाने से पहले बनाये विडियो में ट्रांसपोर्टर प्रकाश पाण्डे ने उनके नाम लिया हो लेकिन वह नही समझ पा रहे हैं कि उन्होंने ऐसा क्यों कहा। मेयर ने कहा कि सरकार से हरसम्भव मदद पीड़ित परिवार को दिलाई जायेगी।

नही होगी दुर्भाग्यपूर्ण घटना की पुनरावृत्ति

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भी मृतक ट्रासंपोर्टर प्रकाश पाण्डे के निधन पर शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने स्व.पांडे के निधन को दुखद बताते हुए कहा कि दुःख की इस घड़ी में राज्य सरकार उनके परिवार के साथ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्व. प्रकाश पांडे की जीवन रक्षा के लिए सभी आवश्यक एवं बेहतर चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई र्गइं। उनको इलाज के लिए शीघ्र मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों को उनको बेहतर ट्रीटमेंट देने को कहा गया था।

उन्होंने कहा कि डॉक्टरों को यह भी कहा गया था कि यदि प्रदेश के बाहर भी कहीं उनका सफल इलाज हो सकता है तो सभी व्यवस्थाएं राज्य सरकार द्वारा की जायेंगी। मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि इस प्रकार की दुर्भाग्यपूर्ण घटना की पुनरावृत्ति न हो।

loading...