परम्परा : यहां मां के सामने ही लड़की और लड़के को मनानी पड़ती है सुहागरात, जानिए क्या है ऐसी वजह ?

181
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क : कुछ देशों में शादी से जुड़े कई रीति-रिवाज ऐसे हैं, जिन्हें सुनकर लोगों के होश उड़ जाएंगे। दरअसल बात यह है कि हमारे देश में शादी को बेहद संजीदा पारम्परिक कर्तव्य माना जाता है। इसमें एक लड़का अपनी पत्नी के साथ जीने मरने की कसम खाता है और उस से शादी कर के उसको अपनी जिंदगी में शामिल करता है जाहिर है शादी में हर इंसान की तरह हर दूल्हा अपनी दुल्हन के साथ सुहागरात भी मनाता है। मगर अब जो बात हम आपको बताने जा रहे है उसको सुनकर आप दंग रह जाएंगे जी हां एक देश ऐसा भी है जहां बेटी को अपनी ही मां के सामने अपनी सुहागरात मनानी पड़ती है। मां के सामने सुहागरात मनाने के बाद ही लड़की की विदाई की जाती है।

marriage_0

वर्षों से चली आ रही है रीति

आज जिस जगह की हम आपसे बात कर रहे है वो कोई गांव या कोई पिछड़ा इलाका नहीं है जी हां वो है कोलम्बो हम हमेशा ये सोचते है की विदेश में तो रहने खाने पीने का तरीका ही अलग होगा मगर सच ऐसा नहीं है। सच्चाई में कुछ और ही है। यहां की रीति को मनाने के लिए लोग मजबूर है।

marrage.1

यह भी पढ़ें-नहीं है गर्लफ्रेंड, तो तुरंत बन जाएगी? बस ये अपनाने होंगे आसान टिप्स

यह भी पढ़ें-इस गांव में शादी के बाद 5 दिन तक निर्वस्त्र रहती है दुल्हन

शादी की परंपरा ही गलत है

आपको बता दे की इनकी परंपरा में शादी के बाद लड़की  को अपनी मां के सामने ही अपने पति के साथ सुहागरात मनानी पड़ती है। आपको जानकर दु:ख होगा की ऐसी रीति आज भी कोलम्बो में लोग मानते है और कोई भी इन नियमो का विरोध भी नहीं करता।

यह भी पढ़ें-यहां शादी से पहले दूल्हे को पीना पड़ता है जानवरों का खून, जानिए क्यों?

यह भी पढ़ें-6 वर्ष का बच्चा जो 32 वर्षीय महिला को बता रहा अपनी पत्नी, बेहद चौकानें वाली खबर

images (1)

सुहागरात होती है प्राइवेट जिंदगी

हम सभी को पता है की सुहागरात एक प्राइवेट जिंदगी की तरह होती है,लेकिन इस परंपरा के अनुसार लड़की  की शादी होने के बाद उसे अपनी सुहागरात, मां के सामने मनानी होती हैं। शादी संपन्न होने के बाद नए जोड़े को सुहागरात मनाने के लिए एक अलग कमरा दिया जाता है। वह कमरे में तब तक बैठी रहती हैं, जब तक पति-पत्नी सुहागरात न मना लें। यह रिवाज वर्षों से चली आ रहा है। लेकिन आज के समय में भी यहां के लोग इस रिवाज को निभा रहे हैं।