गंजापन दूर करना है तो, Mcdonald’s के फ्रेंच फ्राई खाइए…

Facebooktwittergoogle_pluspinterest

दुनिया में बहुत से ऐसे लोग हैं जिनके कम उम्र में ही बाल झड़ने लगते हैं और वो गंजे हो जाते हैं. लेकिन अब उन्हें टेंशन या फिक्र करने की कोई जरूरत नहीं है. क्योंकि वह मेक्डॉनल्ड्स की मदद से अपनी इस समस्या का हल पा सकते हैं. एक रिसर्च में वैज्ञानिकों ने दावा किया है की मेक्डॉनल्ड्स के फ्रेंच फ्राइज में कुछ ऐसे केमिकल होते हैं, जो आपके बाल उगाने में मददगार साबित हो सकते हैं.

McDonald's
ये हम नहीं वैज्ञानिक बोल रहे हैं…

वैज्ञानिकों ने चूहों में इसका प्रयोग किया और वह पूरी तरह से सफल भी रहा.

स्टेम सेल से किया प्रयोग, क्या होता है स्टेम सेल ?

ऐसा दिखता है स्टेम सेल

जापान के योकोहामा नेशनल यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने इंसान की स्टेम सेल की मदद से चूहों के शरीर पर बाल उगा दिया है. स्टेम सेल वो सेल होते हैं, जिनसे शरीर का कोई भी अंग(ऑर्गन) बन सकता है. इन स्टेम सेल्स की मदद से फॉलिकल(20 अलग-अलग तरह के सेल्स से मिलकर बनने वाला सेल होता है,जब इसका इन्टरैक्शन हॉर्मोन्स के साथ होता है तो हमारे बाल बड़े होने लगते हैं) तैयार किया जाता है.

ये फॉलिकल जिन चीज़ों को मिलाकर बनता है, उन्हें पहली बार लैब में बनाया गया है. ये चीज़ें हेयर फॉलिकल जर्म्स (Hair Follicle Germs) कहलाती हैं. गंजेपन के इस रामबाण इलाज को इससे पहले कभी भी आर्टिफीशियली नहीं बनाया गया था.

Mcdonald’s में क्यों डालते हैं इस केमिकल को ?

तलने में झाग न बने इसलिए
इस केमिकल को इस्तेमाल करते हैं.

जिन बर्तनों या वेसेल्स में ये जर्म्स तैयार किए जाते हैं, उनमें एक केमिकल का लेप लगा होता है. इस केमिकल का नाम है डायमीथाइलपॉलिसिलोक्ज़ेन(Dimethylpolysiloxane). इसके इस्तेमाल से फ्रेंच प्राइज़ के डीप फ्राई होने के दौरान झाग नहीं बनता. इसीलिए मेक्डॉनल्ड्स में इसे यूज़ किया जाता है. इससे ऑक्सिज़न आसानी से पास हो जाता है, इसलिए ये हेयर फॉलिकल बनाने में असरदार होता है.

वैज्ञानिकों का क्या कहना है?

सांकेतिक तस्वीर

यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जुंजी फुकुदा का कहना है, ‘बड़े लेवल पर इसके प्रोडक्शन के लिए बर्तन पर लगने वाले मटीरियल का सही चुनाव बहुत जरूरी है. हमने ऑक्सिज़न-परमिएबल डायमीथाइलपॉलिसिलोक्ज़ेन का इस्तेमाल बर्तन के तल पर लगाने के लिए किया. ये बहुत कारगर साबित हुआ.’ इस प्रयोग से एक साथ 5,000 हेयर फॉलिकल जर्म्स तैयार हो गए हैं. चूहे में इसे ट्रांस्प्लांट करते ही उसके नए बाल आने शुरू हो गए. आने वाले समय में ये तरीका इंसानों के लिए भी कारगर होगा.

loading...