जब कॉन्डोम नहीं थे तब भेड़ की आंत का कुछ इस तरह इस्तेमाल करते थे लोग

447
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क : आज के इस युग में लोग कॉन्डोम का नाम लेते ही शर्मा जाते हैं। मगर क्या आपको पता है की कॉन्डोम आज से नहीं बल्कि 18वीं और 19वीं शताब्दी से इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन अब समय बदलने के साथ-साथ लोग जागरुक हो चुके हैं। अब अक्सर लोग सम्बन्ध बनाते वक्त काफी सावधानी रखते है, अनचाहे गर्भ से बचने के लिए आज के समय में कंडोम है। ऐसे में पहले के समय की बात की जाए तो पहले संबंध बनाने के लिए कंडोम्स नहीं होते थे। ऐसे में पहले के समय में क्या होता था वो हम आपको बताते हैं।

कैसे बनाये जाते थे शारीरिक सम्बन्ध

कई बार तो लोग अनचाहे गर्भ से बचने के लिए विदड्राअल या पुल आउट मैथेड को अपनाते थे जिसका मतलब होता था इजेक्युलेशन से पहले ही हट जाना। पहले के समय में लोग अनचाहे गर्भ से बचने के लिए यही तरीका अपनाते थे इसी वजह से दस में से केवल चार महिलाएं ऐसी होती थी जो प्रेग्नेंट होती थी।

भेड़ की आंत से बनाए जाते थे कॉन्डोम

गर्भनिरोधक आज की दुनिया का आविष्कार नहीं है। हमारे पूर्वज भी इनका उपयोग करते थे। आज जहां कंडोम लेटेक्स के बनते हैं, उस समय इन्हें बनाने के लिए भेड़ की आंत का उपयोग किया जाता था। पहले के समय में लोग भेड़ की आंत से एक तरह का कॉन्डोम बनाते थे जिसमे छेद होता था जिससे रिसाव हो सके लेकिन उसे उपयोग करने में लोगो को अच्छा लगता था इसी वजह से वह उसे उपयोग करते थे।