VIDEO : इंडियन क्रिकेट के “The Wall” हुए ICC के “Hall Of Fame” में शामिल, झूमे क्रिकेट फैंस

121
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

दुबई : न्यूज टुडे नेटवर्क- आईसीसी ने हॉल ऑफ फेम में कुछ खिलाड़ियों को शामिल किया है। हॉल ऑफ फेम में ऐसे खिलाड़ियों को शामिल किया जाता है जिन्होंने क्रिकेट इतिहास में लंबे समय तक खेलते हुए बड़ी उपलब्धियां हासिल की हैं। इनमें भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान राहुल द्रविड़ और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनकी शानदार उपलब्धियों के लिए शामिल किया गया है।

देखें वीडियो- किस तरह क्रिकेटर राहुल द्रविड़ ने जताया ‘हॉल ऑफ फेम’ का आभार

द्रविड़ और पोंटिंग के साथ संन्यास ले चुकी इंग्लैंड की महिला विकेटकीपर बल्लेबाज क्लेयर टेलर को भी रविवार को डबलिन में हुए समारोह में ‘हॉल ऑफ फेम’ में जगह मिली। राहुल द्रविड़ इस प्रतिष्ठित सूची में जगह बनाने वाले सिर्फ पांचवें भारतीय क्रिकेटर हैं। इससे पहले भारत के पूर्व कप्तानों बिशन सिंह बेदी, सुनील गावस्कर, कपिल देव और अनिल कुंबले को इसमें जगह मिल चुकी है।

कुछ इस तरह जताया राहुल द्रविड़ ने आभार

इस अवसर पर क्रिकेट की दुनिया में द वॉल के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ ने कहा कि आईसीसी द्वारा क्रिकेट हॉल ऑफ फेम में जगह दिया जाना बेहद ही सम्मान की बात है। कई पीढ़ियों के सर्वकालिक महान खिलाड़ियों की सूची में अपना नाम देखने का अपने क्रिकेट करियर के दौरान कोई सपना ही देख सकता है। उन्होंने कहा कि मैं अपने करीबियों के अलावा जिन खिलाड़ियों के साथ मैं खेला, इतने वर्षों में जिन कोचों और अधिकारियों ने मेरा समर्थन किया और क्रिकेटर के रूप में मेरे विकास में मदद की उन सभी को धन्यवाद देता हूँ।

भारत की ओर से 164 टेस्ट में 36 शतक की मदद से 13288 रन और 344 वनडे में 12 शतक की मदद से 10889 रन बनाने वाले राहुल द्रविड़ ने कहा कि मैं इतने वर्षों में समर्थन के लिए केएससीए और बीसीसीआई तथा मेरी उपलब्धियों को मान्यता देने और हॉल ऑफ फेम में मुझे जगह देने के लिए आईसीसी को भी धन्यवाद देता हूँ।

तो इस वजह से हॉल ऑफ फेम से चूक गए मास्टर ब्लॉस्टर

बता दें कि अभी तक मास्टर ब्लॉस्टर सचिन तेंदुलकर का नाम हॉल ऑफ फेम में शामिल नहीं किया गया है। हॉल ऑफ फेम को साल 2009 में फेडेरेशन ऑफ इंटरनेशनल क्रिकेटर्स एसोसिएशन ने शुरू किया था जो आईसीसी का ही हिस्सा है। इसमें शामिल होने के लिए जरूरी है कि खिलाड़ी ने पिछले पांच सालों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला हो। द्रविड़ सचिन से पहले रिटायर हुए थे इसलिए शायद उन्हें पहले तरजीह दी गई।

हालांकि सचिन को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर हुए पांच साल नहीं हुए हैं। सचिन ने अपना अंतिम टेस्ट मैच नवंबर 2013 में खेला था वहीं जनवरी 2012 में अपना अंतिम टेस्ट मैच खेला था। हालांकि आयोजकों का मानना है कि वे भी सचिन को इस सूची में शामिल करना चाहते हैं लेकिन नियमों के चलते वे ऐसा नहीं कर पा रहे हैं।