हल्द्वानी: दिल्ली पब्लिक स्कूल के नन्हे ताइक्वांडो चैपिंयन ध्रुव ने रचा कीर्तिमान, जीता गोल्ड

177
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: कहते हैं अगर बच्चे को घर पर पैरेंट्स से संस्कारों की पालना और स्कूल में शिक्षकों का उचित मार्गनिर्देशन मिले ,तो एक ना एक दिन वह सफलता की कहानी जरूर लिखता है। कुछ ऐसी ही सफलता की कहानी लिखी है नन्हे ध्रुव कार्की ने। अपनी प्रतिभा और लगन के दम पर दिल्ली पब्लिक स्कूल के होनहार छात्र ध्रुव कार्की ने 5th Grand Open International Taekwondo Championship 2018 में डंका बजाया है।

चैंपियन ध्रुव पर है सबको नाज

क्लास 7 में पढने वाले ध्रुव कार्की ने सब जुनियर केटेगरी में गोल्ड मेडल जीता है। ध्रुव की इस उपलब्धि को माता-पिता ने उसके पैशन और हार्ड वर्क का नतीजा बताया है। वहीं विद्यालय की प्रधानाचार्या रंजना शाही और टीचिंग स्टाफ ने ध्रुव की इस उपलब्धि पर खुशी जताते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की है।

अपने कोच के साथ ताइक्वांडो चैपियन ध्रुव कार्की

बताते चलें कि बच्चों के भीतर स्पोर्ट्स और करिकुलर एक्टीविटीज को लेकर दिल्ली पब्लिक स्कूल प्रबंधन द्वारा खासा ध्यान दिया जाता है। यही वजह है कि किताबी शिक्षा के साथ- साथ बच्चे विभिन्न खेलों में भी बढचढ कर प्रतिभाग करते हैं। विभिन्न खेलों में प्रशिक्षित कोचेस के माध्यम से बच्चों को खेलों में निपुण बनाया जाता है। ताइक्वांडो चैंपियनशिप प्रतियोगिता में सातवीं के छात्र ध्रुव की सफलता, खेलों के प्रति दिल्ली पब्लिक स्कूल प्रबंधन की इसी सोच की एक झलक है।

जानें क्या है ताइक्वांडो

ताइक्वांडो एक कोरियन मार्शल कला है, जिसमें फास्ट, हाई, जंपिंग और स्पीनिंग कीक होता है। यह एक अत्याधुनिक मार्शल कला है। यह तीन शब्दों से बना है। इसमें प्रथम शब्द ‘टीएसी’ का अर्थ पैर से रोकना, मारना व कूदना। द्वितीय शब्द ‘केडब्ल्यूओएन’ का अर्थ हाथ से बचाव करना, मारना व रोकना होता है और तृतीय शब्द ‘डीओ’ का अर्थ कला होता है। ताइक्वांडो एक आत्म सुरक्षात्मक कला है, जिसमें व्यक्ति एक या अनेकों व्यक्ति से स्वयं को सुरक्षित रख सकता है। दिल्ली पब्लिक स्कूल का ध्रुव कार्की भी उन्हीं ताइक्वांडो चैपिंयन्स में से एक है।

“न्यूज टुडे नेटवर्क” की ओर से ध्रुव कार्की को उनके उज्जवल भविष्य की ढेरों शुभकामनाएं…..