रूद्रपुर- बेटियों के लिए बेहद खास है ‘महिला चेतना उपवन’ ,आज कुमाऊं कमिश्नर ने रखी है इसकी नींव

361
Facebooktwittergoogle_pluspinterest
अधिकारियों के साथ बैठक लेते कुमाऊं कमिश्नर राजीव रौतेला

रूद्रपुर – न्यूज टुडे नेटवर्क: कुमाऊं कमिश्नर राजीव रौतेला की पहल पर बेटियों व महिलाओं के लिए मण्डल में महिला चेतना उपवन की स्थापना की जा रही हैं। जिसमें बेटियों और महिलाओं का व्यक्तित्व उभरकर सामने आए और वे सकाराम्मक कार्य कर सकें। इसी क्रम मे आज किच्छा ब्लाक के ग्राम पंचायत रामेश्वरपुर में मण्डलायुक्त द्वारा वृक्षारोपण कर महिला चेतना उपवन का शुभारम्भ किया गया।

मण्डल में खोले जाएंगे अधिक से अधिक महिला चेतना उपवन

इस अवसर पर कुमाऊं कमिश्नर ने कहा यह केन्द्र केवल बेटियों व महिलाओं के लिए ही बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसमें पानी, बिजली, सडक व शौचालय की पूरी व्यवस्था की जायेगी। उन्होंने कहा महिलाओं पर सामाजिक बाध्यता होने के कारण वह खुलकर बाहर नही जा सकती है उन्हे आपसी विचार-विमर्श, क्षेत्र के विकास महिलाओ व बेटियो को शिक्षा देने हेतु महिला चेतना उपवन की स्थापना की गई है। यहां पर वे खुलकर बाते कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि यहां बेटियां सामूहिक रूप से पढाई भी कर सकती है। मण्डल में महिला चेतना उपवन अधिक से अधिक खोले जायेंगे। इसके साथ ही महिलाओ को शासन स्तर पर मिलने वाली सुविधाओ को भी बताया जायेगा।

महिलाओं से संबन्धित हो कोई शिकायत तो इस नंबर पर करें कॉल

जिलाधिकारी डॉ. नीरज खैरवाल ने कहा कि महिलाओं को अपने अधिकार से सम्बन्धित सभी जानकारियां होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि महिलाओं से सम्बन्धित यदि कोई भी शिकायत है, उन्हें 05944-250250 पर भी दर्ज कराई जा सकती है। मुख्य विकास अधिकारी आलोक कुमार पाण्डेय ने बताया जनपद के 06 अन्य स्थानों पर बेटियों व महिलाओं को सुविधा देने हेतु महिला चेतना उपवन की स्थापना की जा रही है।

इस अवसर पर मण्डलायुक्त द्वारा पौधरोपण किया गया। उन्होंने कहा कि पौध रोपण करने से ही सार्थतका प्रकट नही होती, आज जो पौधें लगाये गये हैं, उनकी देख-रेख भी होनी चाहिए। इस अवसर पर मण्डलायुक्त द्वारा परिसर मे लगे आंगनबाडी केन्द्र का भी निरीक्षण कर केन्द्र मे पढ रहे बच्चो से जानकारी ली। इस अवसर पर डीडीओ अजय सिंह, एसडीएम युक्ता मिश्र, बीडीओ मोनिका, ग्राम प्रधान जसवीर कौर, गोल्डी मुंजाल सहित अन्य ग्रामवासी व जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।