खुशखबरी- योगी सरकार ने लिया अहम फैसला, अब UP के स्कूलों में नही होगी अध्यापकों की कमी

99
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

लखनऊ- न्यूज टुडे नेटवर्क : यूपी सरकार ने कहा कि प्रदेश में 41 हजार 556 सहायक अध्यापकों का चयन हो चुका है और इन शिक्षकों की भर्ती के बाद शिक्षक-छात्र अनुपात को और बेहतर करने तथा समायोजन में होने वाली समस्याओं से निजात पाने में मदद मिलेगी। विधान परिषद में एक सवाल के जवाब में बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अनुपमा जायसवाल ने कहा कि जहां तक जिलों में शिक्षकों के समायोजन का सवाल है तो जिलों में जब देखा गया कि शिक्षक-छात्र अनुपात ठीक नहीं है तो उपलब्ध शिक्षकों में से समायोजन की प्रक्रिया शुरू हो गयी है, जो 05 सितम्बर तक पूरी हो जाएगी।

बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अनुपमा जायसवाल

अब तक हो चुका है 41,556 अभ्यर्थियों का चयन

उन्होंने बताया कि इसके साथ ही 68,500 सहायक अध्यापकों की भर्ती परीक्षा में 41,556 अभ्यर्थियों का चयन हो चुका है। इन शिक्षकों के आने के बाद समस्या का हल काफी हद तक हो जाएगा। इसके आगे भी भर्ती प्रक्रिया जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि छात्र-शिक्षक अनुपात को बनाए रखते हुए अगर आपसी सहमति के आधार पर शिक्षक परस्पर तबादला कराना चाहते हैं तो इसकी अनुमति दी गयी है।

समायोजन में नहीं चलेगा कोई ‘खेल’

मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कि जहां तक समायोजन की बात है तो यह केवल शिक्षक-छात्र अनुपात ठीक करने के लिये ही किया जाता है। जहां पर शिक्षक ज्यादा हैं वहां से निकालकर उन्हें ऐसे स्कूलों में भेजा जाता है, जहां शिक्षकों की कमी है। अगर किसी विद्यालय में समायोजन को लेकर इस तरह की कोई शिकायत की जाती है तो जांच कराकर सम्बन्धित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कि इसकी निश्चित रूप से जांच करायी जाएगी। अगर ऐसा पाया गया तो कार्रवाई भी होगी, और नियमतः जो भी शिक्षकों के तबादले किये गये, या होने चाहिए थे मगर नहीं हुए, उसका भी पूरा ध्यान रखा जाएगा।