नई दिल्ली- मध्यम वर्गीय परिवारों का घर खरीदने का सपना अब होगा पूरा, मोदी सरकार ने दी ये बड़ी राहत

41
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली: न्यूज टुडे नेटवर्क- महंगाई के इस दौर में मोदी सरकार घर खरीदारों के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आई है। सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घरों के साइज में बड़ा बदलाव किया है। मिडिल इनकम ग्रुप यानि एमआईजी-I और एमआईजी-II कैटेगरी में घरों का कार्पेट एरिया बढ़ा दिया गया है।

एमआईजी-I में एरिया 120 वर्गमीटर से बढ़ाकर 160 वर्गमीटर कर दिया गया है वहीं, एमआईजी-II में घरों का एरिया 150 वर्गमीटर से बढ़ाकर 200 वर्गमीटर कर दिया गया है।

एमआईजी-I में सालाना 6 से 12 लाख तक कमाने वाले वालों को और एमआईजी-II में 12 से 18 लाख तक कमाने वालों को घर के लिए लोन मिलता है। बता दें कि प्रधानमंत्री आवास योजना को पीएम मोदी ने 2016 में लॉन्च किया था। इसकी डेडलाइन मार्च 2019 रखी गई थी। एक तरफ ग्रामीण इलाकों में जहां 40 लाख घर बनाए जा चुके हैं। वहीं, शहरी इलाकों में जमीन और पैसे की समस्या के चलते 5 लाख घरों का ही निर्माण हुआ है। यहां अभी 22 लाख घरों का निर्माण और होना है।

मिलेगा सब्सिडी का भी फायदा

सरकार का यह फैसला 1 जनवरी 2017 से प्रभावी होगा। ऐसे में अगर आपने 1 जनवरी 2017 के बाद मकान खरीदा है और बढ़े हुए कार्पेट एरिया में खरीदा है तो आपको प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मिलने वाली सब्सिडी का भी फायदा मिलेगा। जानकारी के मुताबिक 11 जून तक 736 करोड़ रुपए की सब्सिडी लोगों दी जा चुकी है।

ग्रामीण इलाकों में पहले मिलेंगे घर

सरकार की योजना के तहत गरीबों को घर देने का मकसद प्रधानमंत्री आवास योजना को ग्रामीण इलाकों तक लेकर जाना है। पहले इन्हीं इलाकों में घर दिए जाएंगे। मोदी सरकार का मानना है कि गरीबों को घर मिलने से एक बड़ा बदलाव आएगा और न्यू इंडिया का निर्माण होगा।

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सबसे ज्यादा घर उत्तर प्रदेश में बनाए गए हैं। राज्य के ग्रामीण इलाकों में घरों की कमी सबसे ज्यादा थी। यही वजह है कि पिछले एक साल में उत्तर प्रदेश सरकार ने 8 लाख घर बनवाएं हैं। यह किसी भी राज्य से ज्यादा हैं। यही नहीं राज्य में घर लेने वाले लोगों को 1.2 लाख रुपए की सब्सिडी भी दी गई है।