हल्द्वानी- EXCLUSIVE VIDEO : खुफिया कैमरे में कैद हुआ ‘वनभूलपुरा पुलिस’ का काला चेहरा, शराब माफियाओं को क्या खूब पनपाया है !

74
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- चिंगारी कोई भड़के तो सावन उसे बुझाये , सावन जो आग लगाये ,उसे कौन बुझाये….किशोर कुमार के गाये इस गीत का जिक्र सिर्फ इसलिए कर रहे हैं क्योंकि हल्द्वानी पुलिस का भी कुछ ऐसा ही हाल है। दरअसल जिस पुलिस पर शहर की जनता की सुरक्षा की जिम्मेदारी है वही जब अपने कर्तव्यपथ से विमुख हो जाये तो कोई क्या करे।

पुलिस और शराब माफियाओं की पोल खोलता Exclusive Video-

एक तरफ जहां नशे के खिलाफ एसएसपी नैनीताल ने जंग छेड़ रखी है वहीं हल्द्वानी की एक तस्वीर से ऐसी भी हैं जहाँ खुद पुलिस वाले नशे के काले कारोबार की जड़ों को सींचने का काम कर रहे हैं। न्यूज टूडे नैटवर्क की स्पेशल इन्वेस्टिगेटिंग टीम (एसआईटी) ने बरेली रोड स्थित आंवला चौकी के पास रेलवे फाटक पर ऐसे ही शराब माफिया को बेनकाब किया है। खुफिया कैमरे में कैद शराब माफिया का आदमी यह कहते साफ दिख रहा है कि वो लम्बे समय से देशी शराब का अवैध कारोबार कर रहा है। और इस पूरे खेल में उसे वनभूलपुरा पुलिस का पूरा आर्शीवाद मिला हुआ है।

बेरोकटोक बिकती है यहाँ देशी दारू , फिर भी पुलिस  बेखबर ?

 Police and alcohol mafia
इस तरह बिकती है आंवला चौकी में अवैध देशी शराब

क्षेत्र के लोगों ने सुरक्षा की दृष्टि से नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि जब से गौला में खनन का कार्य शुरू हुआ है तभी से आंवला चौकी के पास झोपड़ी बनाकर शराब माफिया सक्रिय हो गये हैं। गौला में काम करने वाले मजदूरों को शराब माफिया ऊंचे दामों पर देशी शराब मुहैय्या करवाता है। कई महिलाओं ने तो यहां तक बताया कि सुबह से लेकर देर शाम तक क्षेत्र में शराबियों की दहशत कायम रहती है, जिसके चलते महिलाओं का घर से निकलना भी दूभर हो गया है।

न्यूज टूडे नैटवर्क की एसआईटी टीम ने जब क्षेत्रवासियों से इस गंभीर समस्या पर पुलिस का रूख जानना चाहा तो बड़ा चौकाने वाला खुलासा हुआ। दरअसल खुफिया कैमरे में कैद शराब माफिया के आदमी ने भी वनभूलपुरा पुलिस की निगरानी में इस काले कारोबार के चलने की बात कही थी। ऐसा ही कुछ क्षेत्रवासियों का कहना भी था। लोगों ने कहा इतने लंबे समय से क्षेत्र में शराब का अवैध कारोबार चल रहा है और पुलिस को कोई भनक नही , ऐसा कैसे हो सकता है। क्षेत्र के लोगों का आरोप है कि शराब माफिया के द्वारा वनभूलपुरा थाने को 20 हजार रूपये हफ्ते के रूप में दिये जाते हैं , हालाकि पुलिस पर लगे ये आरोप तो पारदर्शी जांच के बाद ही सामने आयेंगे ,मगर क्षेत्र के लोगों की बात को भी हल्के में नही लिया जा सकता।

शातिर तरीके से चलता है शराब का काला कारोबार

 Police and alcohol mafia

जानकारी के मुताबिक शराब का यह काला खेल क्षेत्र में रहने वाले शराब माफिया प्रदीप बिष्ट उर्फ खली की शह पर चलता है। आंवला चौकी पर शराब का काला कारोबार बड़े ही शातिर ढंग से अंजाम दिया जाता है। किसी को भी शराब खरीदनी होती है तो सबसे पहले गुड्डू नाम के शख्स से मिलना होता है। उसके बाद गुड्डू उस व्यक्ति को पटरी के किनारे बनी झौपड़ी पर ले जाता है, जहां मौजूद शराब माफिया का आदमी उसे देशी शराब गुलाब मुहैय्या करवाता है।

शराब लेने आये कुछ लोगों ने बताया कि यहां मार्केट रेट से दुगनी कीमत पर शराब मिलती है। गुलाब के एक देशी पव्वे की कीमत 70 रूपये चुकानी पड़ती है। ऐसे में समझा जा सकता है कि शराब माफिया किस तरीके से फलफूल रहा है। देशी शराब खरीदने के लिए यहाँ सुबह से लेकर देर रात तक शराबियों का जमघट लगा रहता है। बावजूद इसके ना तो पुलिस और ना ही आबकारी विभाग की नजरें इस अवैध कारोबार पर पड़ी।

ऐसे में जब हल्द्वानी पुलिस नशे के खिलाफ मुहिम चलाने का दावा करती हो , खुद एसएसपी जन्मेजय खंडूरी और डीआईजी पूरन सिंह रौतेला इस मुहिम की कमान संभाले हों , ऐसे में हल्द्वानी में आबादी के बीच शराब के अवैध कारोबार का फलफूलना कई सवाल तो खड़े करता ही है।