पीएम मोदी ने इलाहाबाद को दे दी ये बड़ी सौगात, जानिए क्या है खास

37
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

इलहाबाद-न्यूज टुडे नेटवर्क : जाम की समस्या से जूझ रहे इलाहाबाद जल्द ही नई सौगात मिलने जा रही है। फाफामऊ में गंगा नदी पर सिक्स लेन का नया पुल बनने जा रहा है। इसके साथ ही पांच किमी लंबी फोन लेन सड़क भी बनेगी। सड़क मार्ग से इलाहाबाद से फैजाबाद, लखनऊ जाने और आने वालों को इसी तरह की दुश्वारियों से दो-चार होना पड़ता था। लेकिन प्रधानमंत्री की अध्यक्ष में हुई आर्थिक मामलों की केन्द्रीय मंत्रिमंडलीय समिति ने अब इस परेशानी से निजात दिलाने का फैसला किया है। इलाहाबाद से फाफमऊ के बीच में गंगा नदी पर 9.9 किमी लंबा और छह लेन का पुल बनेगा।

bhupen-hazarika-06

दिसंबर 2021 तक पूरा होने की उम्मीद

1948 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होने वाले इस पुल के दिसंबर 2021 तक तैयार होने की उम्मीद है। नए पुल से मौजूदा 2- लेन फाफामऊ पुल पर भीड़भाड की समस्या दूर होगी। यह कुंभ, अर्ध कुंभ और ‘संगम’ में होने वाले अन्य अनुष्ठानों के दौरान भीड़भाड़ और जाम को कम करने में मदद करेगा और इससे इलाहाबाद के तीर्थ पर्यटन एवं घरेलू अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा मिलेगा। नया पुल मध्य प्रदेश से राष्ट्रीय राजमार्ग -27 के रास्ते और नैनी पुल के रास्ते एनएच 76 से लखनऊ-फैजाबाद जाने वाले वाहनों के लिए भी सुविधाजनक होगा। मंत्रालय ने बयान में कहा कि इस परियोजना के निर्माण के दौरान लगभग 9.20 लाख कार्यदिवस के बराबर रोजगार पैदा होंगे। सरकार ने कहा कि मई 2014 से पहले इलाहाबाद से फरक्का के बीच गंगा पर केवल 13 पुल थे, लेकिन 2014 के बाद 20 नए पुल बनाने की योजना बनाई गई थी, जिनमें से पांच को खोल दिया गया और सात पुलों पर काम चल रहा है।

अभी क्या है स्थिति

अभी इलाहाबाद से फाफामऊ जाने के क्रम में गंगा नदी को पार करने के लिए एनएच-96 पर पुराना दो लेन का पुल है। इस पुल की हालत बहुत अच्छी नहीं है। जबकि प्रतिदिन इस रास्ते से करीब 30-40 हजार वाहन गुजरते हैं। पुल के दो लेन के होने के कारण यहां जाम लगना सामान्य घटना है। घंटो जाम की स्थिति का सामना करना पड़ता है। हालात यह है कि सामान ढोने वाले वाहन, ट्रक आदि को सुबह छह बजे से 11 बजे तक के लिए रोककर आम पब्लिक को आने-जाने का रास्ता मुहैय्या कराया जाता है। इसके चलते म.प्र. से इलाहाबाद आकर प्रतापगढ़, फैजाबाद या लखनऊ जाने वाले लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

allahabad

कारोबारियों की समस्या होगी दूर

कौशांबी, बमरौली सहित अन्य इलाकों से बड़ी संख्या में लोग लखनऊ जाते हैं, बमरौली से फाफामऊ तक रास्ता तय करने में उन्हें एक से डेढ़ घंटे तक लग जाते हैं। नया पुल बनने से बड़ी राहत मिलेगी। आईईआरटी इंजीनियरिंग अनुभाग के पूर्व निदेशक एससी रोहतगी का कहना है कि नीवा से फाफामऊ के बीच पुल बन जाने के बाद बड़ी समस्या दूर हो जाएगी। शहर के बाहर शिक्षण संस्थानों में जाने वाले बच्चों को जाम में नहीं फंसना पड़ेगा।