अब चांद-तारों के साथ भी ले सकेंगे Selfie, नासा ने लॉन्‍च किया ये खास मोबाइल एप

127
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

वाशिंगटन : इंटरनेशनल डेस्क स्मॉर्टफोन के इस दौर में शायद ही कोई होगा जो सेल्फी से परिचित ना हो। सेल्फी को लेकर युवा वर्ग से लेकर बडे-बुजुर्गों में काफी क्रेज देखने को मिल रहा है। दुनिया का शायद ही कोई ऐसा देश होगा जहाँ लोग सेल्फी के दीवाने ना हों। ऐसे में सेल्फी के दीवानों के लिए एक खुशखबरी है। नासा ने 2 वर्चुअल रियलिटी एप विकसित किए हैं। इसके जरिए यूजर खूबसूरत अंतरिक्ष में अलग-अलग जगह की सेल्‍फी ले पाएंगे। इस सेल्‍फी एप और एक्‍सोप्‍लेनेट एक्‍सकर्शंस वर्चुअल रियलिटी एप को नासा के स्पिट्जर स्‍पेस टेलिस्‍कोप के लॉन्‍च के 15 साल पूरे होने के अवसर पर जारी किया गया है।

मिल्‍की वे के साथ ले सकेंगे सेल्फी

नासा ने कहा कि नए सेल्‍फी एप से ओरियन नेबुला या मिल्‍की वे गैलेक्‍सी के साथ सेल्‍फी ली जा सकती है। एप के जरिए उस जगह की जानकारी भी मिलती है। ये तस्‍वीरें स्पिट्जर से ली गई हैं। इसमें करीब 30 शानदार तस्‍वीरें हैं। नासा भविष्‍य में अपने अन्‍य मिशन से खींची गई तस्‍वीरों को सेल्‍फी एप से जोड़ेगा। एक्‍सोप्‍लेनेट एक्‍सकर्शंस वर्चुअल रियलिटी एप के जरिए यूजर TRAPPIST-1 प्‍लेनेटेरी सिस्‍टम की सैर करेंगे. इसमें उन्‍हें कैसे आगे बढ़ना है, इसकी जानकारी दी जाएगी।

जानें क्‍या है ट्रेपिस्‍ट-1 प्‍लेनेटरी सिस्‍टम

TRAPPIST-1 प्‍लेनेटेरी सिस्‍टम ऐसा एक्‍सोप्‍लेनेट सिस्‍टम है जिसमें धरती के आकार के 7 प्‍लेनेट हैं। स्पिट्जर की मदद से इन ग्रहों की खोज संभव हुई। साथ ही उसके जरिए उन ग्रहों की पूरी जानकारी मिल पाई। TRAPPIST-1 प्‍लेनेटेरी सिस्‍टम टेलिस्‍कोप की नजर से काफी दूर पर स्थित हैं। इन्‍हें सीधे देख पाना संभव नहीं है। लेकिन वीआर एक्‍सपीरियंस फीचर से उसके इम्‍प्रेशन मिलते हैं। ये इम्‍प्रेशन स्पिट्जर के डाटा पर आधारित हैं। वीआर एप्‍प ऑक्‍यूलस और वाइव के लिए उपलब्‍ध हैं। इसे स्पिट्जर मिशन के जरिए जोड़ा गया है. यह आक्‍यूलस स्‍टोर पर भी जल्‍द उपलब्‍ध होगा।