बड़ा फैसला- नई दिल्ली: अब CBSE नहीं कराएगा बड़ी प्रतियोगी परीक्षाएं, जानिए कैसे होंगी NEET, JEE Mains व CMAT की परीक्षाएं

246
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्‍ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: मोदी सरकार ने नीट, यूजीसी नेट, जेईई मेन्‍स और सीमैट परीक्षा की व्‍यवस्‍था में बड़ा बदलाव किया है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) इस साल 2018 से नीट, यूजीसी नेट, जेईई मेन्‍स और सीमैट परीक्षा कराएगा। सभी परीक्षाएं कम्‍प्‍यूटर आधारित होंगी।

परीक्षा के पैटर्न, भाषा और फीस में नही होगा बदलाव

परीक्षा के पैटर्न, भाषा और फीस में कोई बदलाव नहीं होगा लेकिन कम्‍प्यूटर से परीक्षा कराने से आसानी होगी। जेईई और नीट परीक्षा साल में 2 बार होगी। प्रकाश जावडेकर ने कहा कि जिनके पास कम्‍प्यूटर नहीं है वह अगस्त से एग्जाम सेंटर में जाकर प्रैक्टिस कर सकता है। सरकार कम्प्यूटर पर प्रैक्टिस की व्यवस्था मुफ्त में कराएगी। ये सुविधा 4 महीने तक मिलेगी। इसके लिए सरकार जगह-जगह कम्प्यूटर सेंटर खोलेगी।

प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने काम करना शुरू कर दिया है। नीट, जेईई मेन्‍स, सीमैट, नेट जो अब तक सीबीएसई कराता था वह अब यह एजेंसी कराएगी। ये कम्यूटर आधारित परीक्षा होगी। इससे परीक्षा में पर्चा लीक होने की समस्‍या खत्‍म होगी। सिलेबस, फीस, भाषाओं में बदलाव, प्रश्नों का रूप इसमें कोई बदलाव नहीं होगा।

बता दें कि देश में हर साल नीट में करीब 13 लाख स्टूडेंट्स ,जेईई में 12 लाख ,जिपैट में 40 हजार और सीमैट में 1 लाख स्टूडेंट बैठते हैं। ऐसे में परीक्षा एजेंसी में हुए इस बदलाव को लेकर विद्यार्थियों में उत्सुकता बनी हुई है।