नई दिल्ली- Mutual Funds से होगा बच्चों का फ्यूचर Secure , इन बातों का रखें ध्यान

43
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्‍ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: हर माँ -बाप की यही ख्वाहिश होती है कि उसके बच्चों का भविष्य शानदार हो। बच्चे की परवरिश से लेकर करियर निर्माण तक किसी भी तरह की कोई परेशानी ना आए। ऐसे में हर अभिभावक अपने बच्चों के लिए बैंक और पोस्टऑफिस में बचत खाते भी खोलते हैं।

ऐसे में आने वाले वक्त में बच्‍चों के करियर को सुरक्षित करने के लिए Mutual Funds में निवेश किया जा सकता है। अगर छोटे बच्‍चों के नाम पर म्‍युचुअल फंड में निवेश किया जाए तो 15 से 20 साल में काफी अच्‍छा फंड तैयार किया जा सकता है। लेकिन हम यहाँ आपको बता दें कि म्युचुअल फंड में निवेश करना अपने आप में जोखिम भरा होता है। ऐसे में अगर आप निवेश करने का प्लॉन बना रहे हैं तो एक्सपर्ट की सलाह अवश्य लें।

Mutual Funds के लिए चाहिए ये जरूरी दस्तावेज

बच्‍चे के लिए सिंगल नाम से ही म्‍युचुअल फंड में निवेश शुरू किया जा सकता है। ऐसे निवेश में गार्जियन का नाम या कोर्ट की तरफ से नियुक्‍त गार्जियन अभिभावक के रूप में रहता है। इन दस्‍तावेजों में बच्‍चे की उम्र के साथ पिता या कोर्ट से नियुक्‍त गार्जियन के दस्‍तावेज लगाने होते हैं। उम्र के लिए बच्‍चे का जन्म प्रमाणपत्र होना चाहिए।

अगर बच्‍चे का पासपोर्ट हो तो वह भी मान्‍य है। यह दस्‍तावेज म्‍युचुअल फंड में निवेश शुरू करते वक्‍त चाहिए होते हैं। बाद में अगर इसी फोलियो में और निवेश करना हो तो किसी भी तरह के दस्‍तावेज की जरूरत नहीं पड़ती है। लेकिन अगर किसी अन्‍य म्‍युचुअल फंड की योजना में निवेश शुरू करना हो तो फिर से यही प्रक्रिया दोहरानी होती है। म्‍युचुअल फंड में इस निवेश के लिए बच्‍चे का बैंक खाता भी जोड़ा जा सकता है और गार्जियन का बैंक खाता भी जोड़ा जा सकता है।

SIP भी है बेहतर ऑप्शन

म्‍युचुअल फंड में सिस्‍टेमैटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) के जरिए भी निवेश किया जा सकता है। ऐसे में बच्‍चे के नाम पर SIP की शुरूवात की जा सकती है। लेकिन यह SIP केवल बच्‍चे के 18 साल के होने तक ही चल सकती है।