इंटरनेट यूजर्स के लिए किसी सौगात से कम नही है Li-Fi तकनीक, भूल जाएंगे Wi-Fi

164
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: आज के वक्त में इंटरनेट हर किसी की जरूरत बन चुका है। सोशल मीडिया से लेकर सरकारी और व्यावसायिक कामकाज इंटरनेट के सहारे ही चल रहा है। ऐसे में इंटरनेट सुविधा के लिए वाई-फाई तकनीक से हर कोई वाकिफ है। ऐसे में हम आज इंटरनेट यूजर्स को एक ऐसी तकनीक के बारे में बताने जा रहे हैं जो वाईफाई की तुलना में काफी सुविधाजनक है।

मौजूदा समय में सिग्नल लेने और भेजने के लिए रेडियो सिग्नल्स का इस्तेमाल होता है लेकिन लाई -फाई तकनीक में सिग्नल लेने और भेजने के लिए प्रकाश का इस्तेमाल होता है। Li-Fi मतलब Light Fidelity। यह वायरलेस कम्युनिकेशन पर काम करने वाली एक तकनीक है, जहां डिवाइस डाटा ट्रांसमिट के लिए प्रकाश का इस्तेमाल करता है।

लाई -फाई को साल 2011 में एक जर्मन व्यक्ति ने लोगों के सामने पेश किया था। मौजूदा समय में Li-Fi तकनीक Wi-Fi के मुकाबले में कम लोकप्रिय है। कम लोग ही Li-Fi तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। इसका एक बड़ा कारण यह भी है कि इसके लिए लोगों को अपने घरों में एलईडी लाइट लगानी होगी, जो Wi-Fi के मुकाबले थोड़ा महंगा पड़ता है। लेकिन आने वाले समय में Li-Fi तकनीक का इस्तेमाल बढ़ेगा।

कैसे काम करती है Li-Fi तकनीक

लाई -फाई तकनीक में सिग्नल भेजने और रिसीव करने के लिए प्रकाश का इस्तेमाल किया जाता है। दरअसल एलईडी लाइट सिग्नल भेजने के लिए एक सेकेंड्स में लाखों बार टिमटिमाती है, जिसे हम अपनी खुली आंखों से नहीं देख पाते हैं और हमें लगता है कि बल्ब लगातार जल रहा है।

लाई -फाई तकनीक से जुड़ी एक और दिलचस्प बात आपको बताते हैं वो ये कि लाई -फाई तकनीक में कोई भी आपके इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं कर सकता है जब तक आप न चाहें। ऐसा इसलिए क्योंकि इंटरनेट सिग्नल उसी जगह पर आता है जहां आपने लाइट को लगाया हो। Li-Wi की दूसरी खासियतों में से एक इसका Wi-Fi की तुलना में कई गुना तेज काम करना शामिल है। आपको सिग्नल के लिए Li-Fi डॉन्गल लगाना होगा।

यह भी पढ़ें-Musical.ly ऐप को भूल जाओगे जब फेसबुक का यह नया फीचर देखोगे…

यह भी पढ़ें-फोन को गलत तरीके से कर रहे हैं चार्ज ? जानिए क्या है, फोन चार्जिंग का सही तरीका

यह भी पढ़ें-गूगल प्ले स्टोर में जाकर इस ऐप को करें डाउनलोड नहीं होगा आपका मोबाइल हैंग

यह भी पढ़ें-स्लो या हैंग हो रहा है आपका स्मार्ट फोन? तो ये 5 एप तुरंत कर दीजिए अनइंस्टॉल, स्पीड हो जाएगी नई जैसी

इंवायरमेंट फ्रेंडली है लाई -फाई

यह तो आप जानते ही हैं कि वाईफाई तकनीक रेडियो सिग्नल पर काम करता है, जो पर्यावरण और कई जीवों खासतौर पर पक्षियों के लिए हानिकारक होते हैं। लेकिन लाई-फाई पर्यावरण के लिहाज से बेहद सुरक्षित तकनीक है। ऐसे में लाई -फाई को ग्रीन तकनीक कहना भी गलत नही होगा।