दु:खद- कुशीनगर रेलवे क्रॉसिंग पर स्कूल वैन और पैसेंजर ट्रेन में हुई भिडंत, 13 बच्चों की मौत

297
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

कुशीनगर- न्यूज टुडे नेटवर्क: उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में आज सुबह एक दर्दनाक हादसा हो गया। कुशीनगर के डिवाइन मिशन स्‍कूल की वैन आज सुबह 22 बच्‍चों को लेकर स्‍कूल जा रही थी। इसी बीच मानव रहित क्रॉसिंग पर थावे-बढ़नी पैसेंजर ट्रेन से वैन की टक्‍कर हो गई। स्कूल वैन और ट्रेन की टक्कर इतनी जबर्दस्त थी कि मौके पर ही 11 स्कूली बच्चों की मौत हो गई। जबकि 2 बच्चों ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। बाकि घायल बच्चों का ईलाज चल रहा है। ये बच्चे डिवाइन पब्लिक स्कूल के छात्र थे।

इसी स्कूल वैन में सवार थे स्कूली बच्चे, वैन की हालत को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि हादसा कितना भयंकर रहा होगा

हादसा इतना भयानक था कि आवाजें दूर-दूर तक सुनी गईं। वैन के परखच्चे उड़ गए। आसपास के लोग चीख-पुकार सुनकर मौके पर पहुंचे और राहत कार्य शुरू किया। पुलिस और प्रशासन को तुरंत ही सूचना दी गई।

हादसे की खबर लगते ही स्कूल और बच्चों के परिवारों में कोहराम मच गया। आनन-फानन में घायल बच्चों को अस्पताल भर्ती करवाया गया। हादसे की खबर लगते ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने दुख जताते हुए घायल बच्चों के ईलाज में हर संभव मदद के आदेश दिये। वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ ने कुशीनगर पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया और घायल बच्चों से मिलने अस्पताल भी पहुंचे। उधर इस घटना ने एक बार फिर मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर सुरक्षा को लेकर गंभीर सवाल खड़े कर दिये हैं।

तो क्या ड्राइवर के एयरफोन ने ली मासूमों की जान

जानकारी के मुताबिक जिस वक्त यह हादसा हुआ उस वक्त स्‍कूल वैन के ड्राइवर ने कानों में इयरफोन लगाया हुआ था , साथ ही वह जल्‍दबाजी के चक्‍कर में कॉसिंग पार करना चाह रहा था। इसी दौरान ये हादसा हो गया। रेलवे के मुताबिक कॉसिंग पर गेट मित्र मौजूद था और उसने ड्राइवर को रुकने का इशारा भी किया, लेकिन ड्राइवर ने उसके इशारे की ओर ध्‍यान नहीं दिया। फिलहाल रेलवे ने जांच के बाद ही घटना की सच्चाई सामने आने की बात कही है। लेकिन इस दर्दनाक हादसे ने परिवारों से उनके कलेजे के टुकड़ों को तो छीन ही लिया है।

रेलवे ने की मुआवजे की घोषणा 

रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने कुशीनगर में हुए हादसे में स्कूली बच्चों की मृत्यु पर ट्वीट कर शोक व्यक्त किया। सीनियर अधिकारियों को हादसे की जांच के निर्देश दिए हैं। मृतकों के परिजनों को रेलवे की ओर से 2 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी। यह मदद यूपी सरकार की ओर से दी गई 2 लाख की राशि के अतिरिक्त होगी।