हल्द्वानी-व्यापारी कुश की हत्या से पहले फौजी ने किया था ये काम, आस-पास के लोगों को हो गया था आभास

4791
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: रिटायर फौजी रावत ने कुश की जान लेने से पहले अपनी लाईसेंसी बंदूक की, की थी सफाई। रानीबाग एचएमटि फैक्ट्री में गार्ड के रूप में तैनात मोहन सिंह रावत अपने साथी गार्डों के साथ रानीबाग स्थित किराए के कमरे में रहता था। दिन में व्यपारी से मोबाईल को लेकर हुए झगड़े से गुस्साएं फौजी रावत की हरकत का आभास आस-पास के लोगो को दोपहर में ही हो गया था।

हत्या से पहले की बंदूक की सफाई

जानकारी अनुसार फौजी द्वारा किसी घटना को अंजाम देने का आभास मोहन सिंह रावत के कमरे के आस-पास रह रहे लोगो को पहले ही हो गया था। 5 जुलाई की दोपहर को कुश बक्शी से मोबाईल रिपेयरिंग को लेकर हुई झड़प के बाद रिटायर फौजी गुस्से से आग बबूला हो गया। कुश को मारने की धमकी देते हुए वह सीधा रानीबाग अपने कमरे में पहुंचा। जहां वह अपनी दोनाली बंदूक की सफाई करने लगा।

इतना ही नहीं कमरे में रह रहे साथी सिक्योंरिटी गार्ड द्वारा पूछने पर कि ‘रावत जी आज इसकी सफाई क्यूं कर रहे हो’ का जवाब मोहन ने आज इस बदूंक का इस्तेमाल होगा कह कर दिया। जिसके बाद वह बंदूक को साथ में लेकर अपनी बेईज्जती का बदला लेने हल्द्वानी की ओर दुबारा रवाना हो गया। जहा पहुंचकर उसने मौके मिलने पर कुश की हत्या करदी।

क्या था पूरा मामला

पांच जुलाई को मोहन सिंह रावत अपने मोबाईल की बैट्री संभलवाने के लिए कुश की दुकान में आया। कुश द्वारा एक दिन पहले ही रिटायर फौजी को बैट्री बेची गई थी। जो सही से काम नहीं कर रही थी। जिसके चलते रिटायर फौजी दुकान में आया। दुकान में बैटरी वापस करके पैसे लौटाने की बात में मोहन ने गुस्से में बैट्री फैकि जो सीधा सामने बैठी कुश की मम्मी और उसके मृत्क पिताजी की फोटो से टकरा गई।

जिसके बाद गुस्से में आए कुश और मोहन की आपस में झड़प हो गई। जिसमें रिटायर फौजी की कमीज भी फट गई। जिसके बाद वह आगबबूला होकर कुश को धमकी देते हुए वहा से चला गया। और शाम को मौका देखते ही कुश की दुकान में घुसकर गोली मारकर उसकी हत्या करदी। जिसके बाद मौके पर भीड़ ने उसकी पिटाई करके पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस आरोपी मोहन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।