उत्तराखंड की मशरूम गर्ल ने पहाड़ में खोला पहला “कीड़ा जड़ी चाय रेस्टोरेंट”

1977
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

देहरादून.[न्यूज टुडे नेटवर्क] पहाड़ की कीड़ा जड़ी. देश-विदेश में अपनी पहचान बनाने वाली ये कीड़ा जड़ी अब तक सबसे शक्तिशाली औषधि के रूप में ही जानी जाती थी. उत्तराखंड की मशरूम गर्ल कही जाने वाली दिव्या रावत ने 26 मार्च से देहरादून में कीड़ा-जड़ी चाय की बिक्री शुरू कर दी है. दिव्या का दावा है कि यह देश का पहला कीड़ा जड़ी चाय रेस्टोरेंट है.

बीते वर्ष में उन्होंने अपनी लैब में कीड़ा-जड़ी का उत्पादन शुरू कर दिया था. इससे तैयार चाय के स्वाद से अब वह दूनवासियों को भी परिचित करा रही हैं.

दिव्या ने बताया कि कीड़ा जड़ी चाय अब तक सिर्फ विदेशों में ही मिलती है, लेकिन अब देश का पहला रेस्टोरेंट दून में शुरू हो चुका है. बताया कि कीड़ा जड़ी में कॉर्डिसिपिन व एडेनोसाइन तत्व की मौजूदगी होने से यह स्वास्थ्य की दृष्टि से बेहद लाभकारी है. इससे शरीर में प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने से बीमारियां भी पास नहीं फटकतीं. बताया कि शुरूआती दस दिन तक प्रति कपल दो कप चाय एक हजार रूपये में उपलब्ध कराई जा रही है. फिलहाल यह ऑफर अकेले व्यक्ति के लिए नहीं है.

कीड़ा जड़ी चाय के लाभ

रक्त शुद्धिकरण.

ऊर्जा बढ़ाना.

प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि.

वजन घटाना.

एचआइवी, स्किन एलर्जी, किडनी की सफाई व अन्य रोगों में लाभदायक.

ऐसे बनती है चाय

सबसे पहले उबले हुए पानी को एक कप में डालकर उसमें डेढ़ ग्राम कीड़ा जड़ी डाली जाती है. 15 से 20 सेकेंड में कीड़ा जड़ी पूरी तरह घुल जाती है और पानी का रंग गोल्डन हो जाता है. इसका स्वाद ग्र्रीन-टी की तरह फीका होता है.

यह भी पढ़े- हिमालय में उगने वाली “कीड़ाजड़ी” का अस्तित्व खतरे में देख, इस लड़की ने खूद बना डाली …