भारत की पैरा स्‍वीमर बेटी ने रचा इतिहास, वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय बनी कंचनमाला

88
Facebooktwittergoogle_pluspinterest
Kanchanmala Pandey
गोल्ड मेडल के साथ कंचनमाला पाण्डे

नई दिल्ली- कहते हैं अगर कुछ करने का जुनुन हो तो हर मुश्किल अपने आप ही घुटने टेक देती है। इस बात को साबित करके दिखाया है कंचनमाला पाण्डे ने , जी हाँ वर्ल्ड पैरा स्विमिंग चैंपियनशिप (तैराकी) में बीते गुरुवार को कंचनमाला पाण्डे ने इतिहास रच दिया।

Kanchanmala Pandey
पैरा स्विमर कंचनमाला पाण्डे

नागपुर की कंचनमाला वर्ल्ड पैरा स्विमिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारत की पहली तैराक बन गई हैं। मेक्सिको में जारी चैंपियनशिप में कंचन पाण्डे ने S-11 वर्ग के 200 मीटर मेडले इवेंट में शीर्ष स्थान हासिल किया।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) में कार्यरत कंचनमाला अपनी खुशी को जाहिर करते हुए कहा कि मैंने वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए अच्छे से तैयारी की थी। मुझे मेक्सिको में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद थी लेकिन वर्ल्ड चैंपियनशिप जैसे इवेंट में गोल्ड मेडल हासिल करना आश्चर्यचकित रहा।

उधार लेकर करनी पड़ी थी स्विमिंग

26 साल की कंचनमाला पाण्डे ब्‍लाइंड पैरा स्‍वीमर है। कंचनमाला पांडे वहीं एक पैरा स्विमर है जो कुछ महीने पहले सुर्खियों में आई थी कि इन्‍हें भारत के बाहर पैसे उधार लेकर स्विमिंग करनी पड़ी थी और भारत की पैरालंपिक कमेटी ने इनकी कोई मदद नहीं की।उसी टूर्नामेंट में एक दूसरे स्थान पर रही थी और वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए इन्होंने क्वालीफाई किया था । महिला वर्ग में क्वालीफाई करने वाली एकमात्र भारतीय तैराक कंचनमाला अन्य इवेंट्स में शीर्ष तीन में जगह बनाने में कामयाब नहीं हुई थीं। 100 मीटर फ्रीस्टाइल में कंचनमाला चौथे स्थान पर रहीं जबकि 100 मीटर ब्रेकस्ट्रोक और बेकस्ट्रोक में वो पांचवें स्थान पर रही।