नहींं थम रहा AMU वारदातों का सिलसिला, कैंपस में गोलीबारी से दो घायल

83
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

अलीगढ़- न्यूज टुडे नेटवर्क। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से आए दिन कोई ना कोई मामला सामने आ ही रहा है। जिन्ना तस्वीर का मामला शांत नहीं हुआ था कि अब कैंपस में गोलीबारी होने का मामला सुर्खियों में आ गया है। इस गोलीबारी में दो छात्र घायल हुए है। पुलिस मामले को दर्ज कर जांच में जुट गई है। मामला कैंपस के आरएम हॉल का है। जहां गोलीबारी हुई। इस वारदात में दो छात्र घायल हुए जो सगे भाई भी है। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अब इस मामले में जिन्ना विवाद को भी बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि कुछ दबंग छात्रों ने रंगदारी मांगी थी। दूसरे छात्रों ने देने से मना किया तो दबंग पक्ष ने चाकू और तमंचा निकाल लिया।

AMU

घायल छात्र बदायूं के रहने वाले

वहीं छात्रों ने ये भी बताया है कि जिन्ना विवाद को लेकर उनके साथ जबरदस्ती की जा रही थी। उन्हें जबरन धरने में बैठने को कहा जा रहा था उन्होंने इंकार किया तो गोली चला दी। दोनों पीडि़त छात्र बदायूं के रहने वाले है। दोनों पर से 3 लाख रुपए की रंगदारी मांगने का मामला है। उन्होंने देने से इंकार किया तो चाकू और तमंचे का इस्तेमाल कर उन पर वार किया। पूरे वारदात को लेकर एसएसपी का कहना है कि कुछ बाहरी तत्व कैंपस में जा रहे है जो वहां के कुछ दबंग छात्रों के साथ रहकर 3 लाख की रंगदारी मांग रहे थे। छात्रों ने मना किया तो हमला बोल दिया। वहीं उन्होंने ये भी बताया कि यही छात्र है जो धरने पर बैठने के लिए अन्य छात्रों पर दबाव बनाते है।

जिन्ना प्रकरण पर धरना-प्रदर्शन होगा तेज

एएमयू छात्रसंघ ने मुहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर दो मई को परिसर में हंगामा करने वाले तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर जारी अपने धरना-प्रदर्शन को और तेज करने का फैसला किया है। एएमयू छात्रसंघ की बैठक में यह निर्णय लिया गया। इस बीच, छात्रसंघ के पदाधिकारियों ने भी अनशन में हिस्सा लिया। इनमें छात्रसंघ के अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी, सचिव मुहम्मद फहद और पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष फैजुल हसन शामिल थे। मालूम हो कि एएमयू छात्रसंघ के नेताओं ने विश्वविद्यालय परिसर में करीब दो हफ्ते से जारी धरना-प्रदर्शन को समाप्त करने की पहल के तहत जिले के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की थी।

amu1

पुलिसकर्मियों के खिलाफ हो कार्रवाई

बैठक के दौरान यह मांग भी रखी गयी कि दो मई को एएमयू के छात्रों पर लाठीचार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई हो। एएमयू के यूनियन हॉल में पाकिस्तान के राष्ट्रपिता जिन्ना की तस्वीर लगी होने के विरोध में हिन्दूवादी संगठनों के कई कार्यकर्ताओं ने पिछली दो मई को एएमयू परिसर में घुसकर हंगामा किया था। उस वक्त पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी भी एएमयू के गेस्ट हाउस में मौजूद थे। विश्वविद्यालय के छात्रों ने हंगामा करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई के लिये प्रदर्शन किया था। इस दौरान उनकी भीड़ को तितर-बितर करने के लिये पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। उसके बाद से विश्वविद्यालय के बाब-ए-सैयद गेट के पास छात्र-छात्राओं का धरना-प्रदर्शन जारी है।