अंडे को लेकर अब नही होगा आपका भेजा फ्राई, वैज्ञानिक रिसर्च में सुलझे अंडे से जुड़े ये 2 सवाल

316
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: कभी सेहत बनाने के लिए तो कभी टेस्ट की वजह से अंडा खाने वालों की कोई कमी नही है। अंडा खाने की हर किसी की अपनी-अपनी वजह होती हैं। कई लोग अंडे को मांसाहारी मानकर इससे मुंह फेर लेते हैं। ऐसे में अंडे से जुड़े कई सवालों ने वैज्ञानिकों को भी सोचने पर विवश कर दिया । अंडा शाकाहारी है या मांसाहारी? अंडा बाहर से तो इतना सख्‍त होता है कि उसको फोड़ना पड़ता है लेकिन अंडे से जब चूजा बाहर निकलता है तो वह इसको आसानी से भेदकर बाहर निकल आता है ? इसी तरह के सवालों से वैज्ञानिकों ने पर्दा उठाने की बात कही है। तो चलिए आप भी जानिये अंडे को लेकर वैज्ञानिकों की रिसर्च में क्या कुछ निकलकर आया। हो सकता है अंडे की वजह से आपका भेजा फ्राई होने से बच जाए।

तो ये है अंडे की परत का रहस्य

कनाडा में मांट्रियल की मैकग्रिल यूनिवर्सिटी ने नई तकनीक के माध्‍यम से अंडे के खोल की आंतरिक संरचना का अध्‍ययन किया। वैज्ञानिकों ने अंडे की मॉलीक्‍यूलर नैनोसंरचना और मैकेनिकल प्रॉपर्टीज का अध्‍ययन के बाद इस नतीजे पर पहुंचे कि जब अंडे दिए जाते हैं तो बाहरी वातावरण से बचने के लिए ये पर्याप्‍त रूप से मजबूत होते हैं। इससे अंदर स्थित चूजे (चिक) को सुरक्षा मिलती है।

लेकिन जैसे-जैसे चूजे का अंडे की खोल के भीतर विकास होता है, वैसे-वैसे इसकी हड्डियों के विकास के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है। अंडे के सेने (incubation) के दौरान खोल के अंदर की परत इस तरह की मिनरल-आयन सप्‍लाई के लिए घुल जाती है। नतीजतन यह परत अंदर से कमजोर हो जाती है और चूजा आराम से इससे बाहर निकल आता है।

अंडा शाकाहारी है या मांसाहारी ?

इसी तरह कुछ समय पहले अंडे के शाकाहारी या मांसाहारी होने के सवाल पर भी एक स्‍टडी आई थी. दरअसल शाकाहारी लोग अंडे को मांसाहारी बताकर नहीं खाते। उनका तर्क होता है कि अंडा मुर्गी से आता है. इसलिए जब मुर्गी नॉन वेज है तो अंडा भी नॉन-वेज है. लेकिन, साइंस कहती है कि दूध भी जानवर से ही निकलता है, तो वो शाकाहारी कैसे है?

ज्यादातर लोगों की गलतफहमी है कि अंडे से बच्चा (चूजा) निकलता है। लेकिन, अगर आप इस कारण से अंडे को मांसाहारी मानते हैं, तो आपको बता दें कि बाजार में मिलने वाले ज्यादातर अंडे अनफर्टिलाइज्ड होते हैं। इसका मतलब, उनसे कभी चूजे बाहर नहीं आ सकते। इस गलतफहमी को दूर करने के लिए वैज्ञानिकों ने भी साइंस के जरिए इस सवाल का जवाब देने की कोशिश की है. उनके मुताबिक, अंडा शाकाहारी होता है।

यह भी पढ़ें-अब उडऩे वाली बाइक भी आ गई

यह भी पढ़ें-जानें कैसे- गूगल के इस टूल की मदद से घर बैठे मिलेगी नौकरी

अनफर्टिलाइज्ड एग होते हैं शाकाहारी

मुर्गी जब 6 महीने की हो जाती है तो हर 1 या डेढ़ दिन में अंडे देती ही है, लेकिन उसके अंडे देने के लिए जरूरी नहीं कि वह किसी मुर्गे के संपर्क में आई हो। इन अंडों को ही अनफर्टिलाइज्ड एग कहा जाता है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इनमें से कभी चूजे नहीं निकल सकते।

दरअसल, अंडे में तीन लेयर (हिस्से) होती हैं- पहला छिलका, दूसरा सफेदी(albumen) और तीसरा अंडे की जर्दी(yolk). अंडे पर की गई एक रिसर्च के मुताबिक, अंडे की सफेदी में सिर्फ प्रोटीन होता है. उसमें जानवर का कोई हिस्सा मौजूद नहीं होता। इसलिए तकनीकी रूप से एग वाइट(सफेदी) शाकाहारी होता है।