हल्द्वानी- नेता प्रतिपक्ष की ‘बड़ी मदद’ से दिवंगत पत्रकार शिवा के परिजनों को मिली हिम्मत

513
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: संजय पाठक- बीते 3 मई को सड़क हादसे में जान गंवाने वाले हल्द्वानी के युवा पत्रकार शिवा मौर्य के परिवार की मदद को समाज के हर वर्ग से मदद मिल रही है। साथी पत्रकारों की मुहिम #HelpForShiva रंग ला रही है। आम जनता से लेकर प्रशासनिक अधिकारी , राजनेता बढचढ कर शिवा के परिवार की आर्थिक मदद कर रहे हैं।

इसी क्रम में आज हल्द्वानी विधायक और नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश और उनके सुपुत्र मंडी समिति के अध्यक्ष सुमित हृदयेश ने दिवंगत पत्रकार शिवा के जवाहर नगर स्थित घर पर पहुंचे। नेता प्रतिपक्ष ने दिवंगत पत्रकार शिवा की मां तुलसी देवी और बड़े भाई रवि शंकर सहित परिजनों को इस दुख की घड़ी में ढांढस बंधाया।

दिवंगत पत्रकार शिवा के परिवार को दुख की घड़ी में ढांढस बंधाने पहुंची नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश और मंडी समिति अध्यक्ष सुमित हृदयेश

नेता प्रतिपक्ष ने बढाये मदद के हाथ

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने परिवार को इस दुख की घड़ी में हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। सुमित हृदयेश ने कहा कि शिवा एक सजग और जिम्मेदार पत्रकार था। छोटी सी उम्र में शिवा ने अपने काम के दम पर विशिष्ट पहचान बना ली थी। लेकिन होनी के आगे क्या किया जा सकता है।

इस अवसर पर नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश और सुमित हृदयेश ने दिवंगत पत्रकार शिवा की मां तुलसी देवी को 1 लाख रूपये की मदद का लिफाफा भी सौंपा। नम आंखों से शिवा की माँ तुलसी देवी ने नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश और सुमित हृदयेश का आभार जताया। बता दें कि दिवंगत पत्रकार शिवा का बड़ा भाई रवि शंकर बोलने और सुनने में असमर्थ है , हालाकि वह टेलरिंग का कार्य करता है। ऐसे में दिवंगत पत्रकार शिवा ही अपने परिवार का आर्थिकी का मजबूत स्तम्भ था।

दिवंगत पत्रकार शिवा की मां तुलसी देवी को 1 लाख रूपये की आर्थिक मदद देती नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश

बताते चलें कि बीते 4 मई से शिवा के परिवार की मदद को साथी पत्रकारों ने मुहिम चलाई हुई है। जिसके तहत पत्रकारों के साथ ही प्रशासन और राजनेताओं से भी मदद की अपील की जा रही है। अगर आप भी परिवार की मदद करना चाहते हैं तो दिवंगत पत्रकार शिवा की मां तुलसी देवी के नाम से बने बैंक ऑफ बडौदा के अकाउंट नं. A/C-09670100019082, IFSC Code- BARB0HALDWA (Fifth Character is Zero) पर मदद कर सकते हैं। यकीन मानिए कमजोर आर्थिक पृष्ठभूमि वाले परिवार की मदद कर आपको बहुत सुकून मिलेगा। आखिर जीना भी तो इसी का नाम है।