लो जी आ गई ‘मोदी बाइक’, जो बिना पेट्रोल और बिना शोरगुल के दौड़ेगी 150 किमी की रफ्तार से

62
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

मेरठ-न्यूज टुडे नेटवर्क : मां फुरकान फूली नहीं समा रही हैं, वह गर्व से कह रही हैं अपने बेटे वकाल अली पर, जिसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात में युवाओं के लिए ‘मेक इन इंडिया’ सुना था और उनके ख्वाब को अकेले ही पूरा कर दिया। वकार न पॉल्यूशन फ्री एक ऐसी इलेक्ट्रिक बाइक बनाई है। जिसकी कीमत करीब 72 हजार रुपये है। बैटरी से चलने वाली इस बाइक का कोई मेंटीनेंस नहीं है और दो साल से सामान्य बाइक के मुकाबले करीब 42 हजार रुपये तक बचत कर सकेगी। मकबरा डिग्गी निवासी रिफाकत अली और फुरकान आलम के बेटे वकार ने दो महीने की दिन-रात मेहनत करके मोड आफ डेवलपिंग इंडियन मोदी बाइक बनाई है। उसे हर तरफ से बधाइयां मिल रही हैं।

72 हजार रुपये होगी इस बाइक की कीमत

इसमें पावर बाइक्स की तरह चेन के बजाय बेल्ट का इस्तेमाल किया गया है। इसके साथ ही ये बाइक कार की तरह रिवर्स भी होती है। इस बाइक को बनाने में कार और मोटरसाइकिल दोनों के पुर्जो से जोडक़र बनाया गया है। जो की देखने में बहुत खूबसूरत लगती है। ये बाइक 150 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ सकती है। बिना इंधन के चलने वाली इस बाइक की कीमत लांच होने के महज 72 हजार रूपए होगी।

modi bike3

इस बाइक का मेंटीनेंट है जीरो

शानदार डिजाइन वाली इस बाइक से न तो शोर होता है और न प्रदूषण फैलता है। बाइक पूरी तरीके से ईको-फ्रैन्डली है। यह बाइक हीटिंग और वाइब्रेट भी नहीं करती। इस बाइक में रि-जेनरेटरेबिल मोटर लगाया गया है, जिससे मोबाइल और लैपटॉप जैसी चीजें भी आसानी से चार्ज की जा सकती हैं। इस बाइक का मेंटीनेंट जीरो है, साथ ही सर्विस कराने के लिए किसी सर्विस सेंटर में जाने की जरूर नहीं है। क्योंकि एक एप की मदद से घर में ही इसकी सर्विस की जा सकती है। बाइक में ड्राई बैटरी का प्रयोग किया गया है।

modi bike

तीन बार मिली असफलता

दिल्ली इंस्टीट्यूट इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी से इस साल ऑटोमोबाइल इंंजीनियरिंग पूरी की है। कॉलेज का वह मेधावी छात्र रहा है। उसने पॅल्यूशन और पेट्रोल फ्री इलेक्ट्रिक बाइक तैयार की है। उसने बताया कि इंजीनियरिंग पूरी करने के बाद उसने दो महीने में दिन-रात मेहनत करके इस बाइक को बनाया है। इसमें वह तीन बार फेल भी हुआ, लेकिन दोबारा जुट गया। मैं बाइक बनाते-बनाते हार जाता था, लेकिन फिर काम में जुट जाता था। उसने कहा कि वह अपने प्रधानमंत्री मोदी के मन की बात को पूरा कर पाया। इसकी उसे बहुत खुशी है।