उत्तराखंड के इस गांव में भूत करते हैं राज, भूलकर भी मत जाना आप…

265
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

(चयन राजपूत) उत्तराखंड में एक गांव ऐसा भी है जहां भूतो का राज है, यहां आने वालों लोगो से भूत अपना बदला लेते हैं. इसके पीछे एक बहुत ही दर्दनाक कहानी छिपी है. इस कहानी को पढ़कर आपकी भी आंखो में आंसू आ जाएंगे…

यह भी पढ़ें-रहस्य ! देवभूमि के इस खूबसूरत बंगले में रहता है ‘गोरा साहब’ का भूत…

इस गांव में इंसानों का नामोंनिशान तक नहीं है. ये गांव विराना रहता है. इसे लोग भूतों का गांव भी कहते हैं, आखिर ऐसा क्या हुआ इस गांव में जो ये गांव भूतों की बस्ती बन गया.

उत्तराखंड के चंपावत जिले में मौजूद स्वाला गांव को यहां के लोग भुतहा गांव के नाम से भी जानते हैं.

इस गांव के भुतहा बनने के पीछे एक अनोखी कहानी है.

Ghosts

स्‍थानीय लोग बताते हैं कि स्वाला गांव के पास 1952 में पीएसी की एक बटालियन गाड़ी खाई में गिर गई थी. गाड़ी के अंदर फंसे जवान अपने बचाव के लिए गांव के लोगों को पुकारते रहें, लेकिन गांव के लोग उनको बचाने के बजाए उनका सामान लूट कर भाग गए. जवानों की तड़प-तड़प कर गाड़ी में ही मौत हो गई.

जवानों की रूह ने इस गांव में ऐसा कोहराम मचाया की लोग इस गांव को छोड़ कर भाग गए. आज भी इस गांव में इनकी आत्माएं घुमती रहती हैं. इसलिए इस गांव में कोई नहीं रहता.

जिस जगह पर पीएसी के जवानों की गाड़ी गिरी थी वहां पर एक मंदिर बनाया गया है और इस रास्ते से गुजरने वाली हर गाड़ी यहां रूकती हैं और लोग मंदिर में प्रथना करते हैं.