पड़ोसी का कुत्ता बार-बार भौंकता था, तो उसे मारा और पका के खा गया

343
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

[न्यूज टुडे नेटवर्क]. कुछ खबरें बड़ी घिनौनी होती हैं. उन्हें पढ़ा नहीं जाता. तो आप सोचिए हम लोग कैसे लिखते होंगे. अगर हम लिखेंगे नहीं तो आपको घटना का पता भी तो नहीं चलेगा. इसलिए ऐसी खबरें भी लिखनी पड़ती हैं. आप लोगो को पढ़ानी पड़ती हैं. ताकि ऐसा जुर्म किसी और के साथ न हो.

देखिए जरा इनको कितने प्यारे होते हैं ये

साउथ कोरिया में एक आदमी अपने पड़ोसी के कुत्ते को मारकर खा गया.

क्यों? क्योंकि उसे कुत्ते के भौंकने से चिढ़ मचती थी. और उस हैवान ने बस इतना ही नहीं किया. उसने उस कुत्ते को मारा और पकाया. फिर जिनका कुत्ता था उन्हें रात को खाने में इंवाइट करने भी गया. ताकि वह उनके कुत्ते का मांस उन्हीं को खिला सके. उस आदमी ने कुत्ते को अकेला पाकर उसके सिर पर पत्थर मारा. जब कुत्ता बेहोश हो गया, तो उसका गला दबाकर उसकी हत्या कर दी. फिर उसका मांस पकाया.

फिर अगले दिन ये शैतान आदमी अपने पड़ोसी के घर पहुंचा. उन्हें सांत्वना देने. कहा कि चिंता मत करो, कुत्ता मिल जाएगा. फिर इसने उस परिवार को अपने यहां रात के खाने का न्यौता दिया. कहा, मैंने कुत्ते का मांस पकाया है. चलो, खिलाता हूं. कोरिया में कुत्ते का मांस खाने का चलन है. लेकिन चूंकि वो परिवार (जिनका कुत्ता था) कुत्तों से बहुत प्यार करता था, सो उन्होंने ये न्योता मंजूर नहीं किया.

यह भी पढ़े- 40 साल की इस आंटी की हवस की कहानी, जबरन बनाती थी 16 से 17 साल के पांच लड़को के साथ संबध

कुत्ते वाला परिवार पूरे शहर में अपने कुत्ते को खोजता रहा. जगह-जगह पोस्टर लगाए. कुत्ते की तस्वीरें चिपकाईं. अपना फोन नंबर लोगों को देते रहे. हाथ जोड़ते रहे कि हमारा कुत्ता दिखे कहीं, तो प्लीज बताना. इतना करने पर भी जब कुत्ता नहीं मिला, तो इस परिवार ने इनाम का ऐलान किया. कहा कि जो भी कुत्ते को खोज लाएगा, उसको करीब 60 हजार रुपये बतौर इनाम देंगे.

इन दोनों के एक पड़ोसी को आरोपी पर शक हुआ. उसने कुत्ते वाले परिवार को ये बात बताई. तफ्तीश के बाद पूरा मामला खुला.

जिनका कुत्ता था, उनकी बेटी ने इंटरनेट पर एक अपील लिखी. उसने आरोपी को सजा दिलाने के लिए लोगों से मदद मांगी. उसकी ऑनलाइन पेटिशन पर 15,000 से ज्यादा लोगों ने साइन किया है.

यह भी पढ़े- ज्यादा सुंदर होने पर स्कूल प्रशासन ने टीचर को नौकरी से निकाला, कहा ‘छात्रों पर पड़ रहा गलत प्रभाव’

दक्षिण कोरिया में कुत्ते का मांस खाया जाता है, लेकिन पिछले कुछ वक्त से यहां लोगों के बीच कुत्ता पालने का चलन बढ़ा है. इसी वजह से कुत्ते का मांस खाने की परंपरा भी कम हुई है. खासतौर पर युवाओं के बीच तो ये बहुत ही कम हो गया है. वहां की नई पीढ़ी कुत्ते का मांस खाना अच्छा नहीं मानती. उनको ये बेहद क्रूर लगता है. पिछले कुछ समय से वहां कुत्ते के मांस पर बैन लगाने की भी मांग चल रही है. आप इंटरनेट पर सर्च करेंगे, तो वहां आपको साउथ कोरिया के लोगों की डाली कई ऑनलाइन पेटिशन मिलेंगी. जिनमें कुत्ते के मांस पर बैन लगाने की मांग की गई है. ऐसी एक पेटिशन में हमें महात्मा गांधी का भी जिक्र मिला. लिखा था:

महात्मा गांधी ने कहा है. कोई देश कितना महान, सभ्य और नैतिक है, ये इस बात से पता चलता है कि वहां जानवरों के साथ कैसा बर्ताव किया जाता है.

लोगों की मांग के कारण वहां कानून में भी थोड़ा बदलाव हुआ है. जानवरों के साथ बदसलूकी करने वालों के लिए दो साल कैद का नियम है.

यह भी पढ़े- “लेस वाले अंडरवियर लाता,बाथरूम में कैमरा लगाया” यौन शोषण की ये भयानक कहानी सुनकर अपनों से विश्वास उठने लगता है