पाकिस्‍तान का पीएम बनते ही एक्‍शन में आए इमरान खान, देश के हित में लिया ये बड़ा फैसला

105
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

इस्लामाबाद- इंटरनेशनल डेस्टपाकिस्तानी पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ के मुखिया इमरान खान ने 22वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ले ली है। उन्हें राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने प्रधानमंत्री के पद एवं गोपनियता की शपथ दिलाई। समारोह में काले रंग की शेरवानी पहनकर पहुंचे खान ने उर्दू में शपथ ली। उनके इस खास दिन में शरीक होने के लिए भारत से पूर्व क्रिकेटर और पंजाब के मंत्री नवोजत सिंह सिद्धू पहुंचे थे। 

पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनते ही इमरान खान ने मनी लॉन्‍ड्रिंग या धनशोधन की समस्या से निपटने के लिए ब्रिटेन से सहयोग मांगा है।पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से खबर आई है कि इमरान खान ने ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरिजा मे के साथ बातचीत में उनसे इस समस्या से निपटने में सहयोग मांगा है।

पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेते इमरान खान

देश को लूटने वाले बक्शे नही जाएंगे- पीएम इमरान खान

वहीं एक दिन पहले इमरान खान ने कहा था कि वह देश को ‘लूटने’ वालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। मैं आज अपने वतन से वादा करता हूं कि हम वह तब्दीली लाएंगे जिसके लिए यह मुल्क लंबे समय से कोशिश करता रहा है। हमें इस देश में सख्त जवाबदेही कायम करनी है। मैं वादा करता हूं कि मैं पाकिस्तान को लूटने वालों के खिलाफ कार्रवाई करूंगा। जिस काले धन को सफेद किया गया, मैं उसे वापस लाऊंगा। जो पैसे शिक्षा, स्वास्थ्य और पानी पर खर्च होने चाहिए थे, वे लोगों की जेब में चले गए। बता दें कि क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान ने शनिवार को पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली है।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे

 

ब्रिटेन के सहारे भ्रष्टाचारियों पर अंकुश लगाने की है तैयारी

इमरान खान का ब्रिटेन से यह आग्रह इस दृष्टि से महत्वपूर्ण हो जाता है कि पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके रिश्तेदार भ्रष्टाचार के एक मामले में इस समय जेल में हैं। उनके खिलाफ कथित मनी लॉन्‍ड्रिंग और रिश्वतखोरी के कई अन्य मामले भी हैं। ‘डॉन’ समाचार पत्र की खबर के अनुसार कल पाकिस्तान का नया प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद ब्रिटिश प्रधानमंत्री मे ने बधाई देने के लिए खान को फोन किया था।

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान

ब्रिटेन की पीएम टेरिजा मे ने इमरान खान के साथ बातचीत में कहा कि उनका सरकार पाकिस्तान के साथ अपने संबंधों को और सुधारने को प्रतिबद्ध है। और हम पाकिस्तान के साथ भागीदारी के नए रास्ते खोलने को तैयार हैं।