रिसर्च: सावधान ! अगर आप करते हैं ये 4 नौकरियां, तो आप हो सकते हैं नपुंसक

186
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क : वैज्ञानिकों का कहना है कि यह शरीर आपका है और उसमें कमियों को महसूस भी आप ही को करना होगा। शरीर का हर अंग जरूरी होता है और कोई भी अंग शर्मिंदगी का कारण नहीं होता। पुरुष हर बात बर्दाश्त कर सकते हैं, लेकिन ये कभी बर्दाश्त नहीं कर सकते कि उनकी मर्दांगी पर उंगली उठाए। वे ऐसा हर काम करने से बचते हैं। वे मेहनत करते हैं। दिनभर काम भी करते हैं जिससे वे अपने परिवार को बेहतर जिंदगी दे सकें। इन कामों में वे अपनी शान और जिम्मेदारी दोनों समझते हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी काम हैं जिन्हें करने से पुरुषों में नपुंसकता का खतरा  बढ जाता है।

इन 4 कामों से हो सकती है नपुंसकता

वैज्ञानिक रिसर्च में इस बात की पुष्टि हुई है कि कुछ ऐसे प्रोफेशन होते हैं, जिनके कारण शरीर के अंदर नपुंसकता, शुक्राणुओं की संख्या में कमी और कामुकता मे कमी आने जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं । आज हम आपको ऐसे कामों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें शामिल होने वाले ज्यादातर पुरुष नपुंसकता जैसी समस्याओं से जुझने लगते हैं।

hard-with-welding

यह भी पढ़ें-उम्र से पहले नहीं आएगा बुढ़ापा, लाइफस्टाइल में करें ये बदलाव !

यह भी पढ़ें-एक पपीता घर बैठे कर देगा आपके डार्क सर्कल को दूर, जानें कैसे

यह भी पढ़ें-घरेलू टिप्स- ऐसे रखें लीची को ज्यादा दिनों तक फ्रेश, जानिए लीची के क्या-क्या हैं फायदे

1. वेल्डर

आपने ज्यादातर जगह वेल्डिंग का काम पुरुषों को ही करते देखा होगा, लेकिन जो पुरुष वेल्जिंग का कम 5 घंटे से ज्यादा समय तक करते हैं तो वेल्डिंग के दौरान निकलने वाली हानिकारक किरणों पुरुषों के निजी पार्ट के संपर्क मं आने लगते हैं जिसकी वजह से उनकी शुक्राणु क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। ऐसा काम लगातार करने पर शुक्राणुओं की संख्या में कमी पाई जाती है और उनकी कामुकता में भी कमी आती है।

jim trenar1

2. जिम ट्रेनर और एथलीट

आज तक आप जिम ट्रेनर और एथलीट को हर तरह से फिट ही कहते आए होंगे। फिटनेस के कारण गलत उम्मीद की जाती है कि इनकी सेक्स पावर भी अच्छी रहते है। मगर अगर आप ऐसा सोचते हैं तो लेकिन ऐसा मानना कुछ हद तक गलत भी हो सकता है। अपने इस प्रोफेशन की वजह से उनको कई घंटों तक लगातार अपना काम करना पड़ता है और इस वजह से टेस्टोस्टेरोन को नुकसान पहुंचता है जिससे उनके शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ जाती है।

byscile

3. साइकिल चलाना

जो लोग साइकिल का उपयोग सबसे ज्यादा करते हैं या जो हर दिन 5 घंटे से ज्यादा साइकिल चलाते हैं। उनमें ये खतरा ज्यादा बढ़ता है। उन पुरुषों में शुक्राणुओं की गिनती में समस्या आ सकती है जिससे उनका व्यवाहिक जीवन पर भी असर पड़ सकता है।

4. लैपटॉप चलाते समय रखें ध्यान

एक बात का ध्यान जरूर रखें लैपटॉप चलाते समय लैपटॉप को प्राइवेट पार्ट पर न रखें। क्योंकि लैपटॉप के अंदर से जो गर्मी निकलती हैं वह नपुसंकता का कारण बन सकती हैं।