हरिद्वार- कांवड़ यात्रा के चलते 5 अगस्त से बदल जाएंगे बसों के रूट, जानें क्या होंगे नए मार्ग

461
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हरिद्वार- न्यूज टुडे नेटवर्क: सावन के पवित्र महीने में भगवान शिव के भक्तों में गजब का उत्साह देखने को मिल रहा है। अपने आराध्य शिव शंभू को प्रसन्न करने के लिए सावन के महीने में विशेष रूप से कांवड़ यात्रा में भागीदारी करते हैं। देश के कोने- कोने से भोले के भक्त अपनी टोलियों के साथ Haridwar Kawad Yatra 2018 कांवड़ यात्रा में हर्षोल्लास के साथ शिरकत करते हैं।

Haridwar Kawad Yatra 2018

ऐसे में सड़कों पर चलने वाला यातायात भी कांवड़ यात्रा के चलते प्रभावित होती है। ऐसे में साल 2018 की कांवड़ यात्रा को ध्यान में रखते हुए तीर्थनगरी हरिद्वार में भी प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम किए हैं। कांवड़ियों की संख्या बढ़ने पर ही बसों को वन-वे चलाया जाएगा। 5 अगस्त से बसों के रूट भी बदले जाएंगे। मोतीचूर और नीलधारा गौरीशंकर में अस्थायी बस अड्ड़े से बसों का संचालन होगा।

कांवड़ यात्रा के चलते हरिद्वार शहर में बसों का प्रवेश 5 अगस्त से पूरी तरह से प्रतिबंधित हो जाएगा। हालांकि कुछ रूट 4 अगस्त से ही बंद कर दिए जाएंगे। 5 अगस्त से बसों के लिए रूट तय कर दिए गए हैं। यात्रियों की संख्या बढ़ने पर रुड़की जाने वाली बसों को सिंहद्वार-कनखल लक्सर मार्ग से लक्सर, लंढौरा होते हुए रुड़की तक चलाया जाएगा। इसी रूट से सहारनपुर की बसें भी चलेंगी।

एआरएम सुरेश चौहान ने बताया कि 5 अगस्त से दिल्ली और शिमला रूट की बसों का रास्ता भी बदल जाएगा। रूट बदलने से नारसन, मुजफ्फरनगर, खतौली, सकौती जाना मुश्किल रहेगा तो शिमला रूट पर रुड़की, भगवानपुर, छुटमलपुर, यमुनानगर, सहारनपुर, सरसावा जाने वाले यात्रियों को भी असुविधा होगी। बसों के संचालन के लिए हरिद्वार से बाहर मोतीचूर में और चंडीघाट पर गौरीशंकर पार्किंग में अस्थायी बस अड्ड़े बनाने का काम शुरू कर दिया गया है।

टेंट लगाकर बसों के लिए निर्धारित स्टोपेज बनाने का काम शुरू करते हुए शासन से अतिरिक्त अधिकारी मांगे गए हैं। इसके साथ ही कांवड़ यात्रा के चलते बड़े रूट की वजह से किराए में भी वृद्धि हुई है। हरिद्वार से ऋषिकेश के किराये में 7 रुपये, मेरठ-दिल्ली के किराये में 15 रुपये, चंडीगढ़ के किराये में 90 और शिमला के किराये में 85 रुपये की वृद्धि की गई है।

हरिद्वार से शिमला के लिए बसें कहाँ से मिलेंगी

शिमला जाने वाली बसें हरिद्वार के मोतीचूर बस अड्ड़े से ऋषिकेश, देहरादून, प्रेमनगर, सहसपुर, रामगढ़, हरियाणा में पंचकुला, मनीमाजरा होते हुए चंडीगढ़ शहर में प्रवेश करेंगी। आगे का रूट पूर्ववत होते हुए बस शिमला पहुंचेंगी। ऋषिकेश जानी वाली बसें चिल्ला से होकर गुजरेंगी।

हरिद्वार से दिल्ली की बसें कहाँ से जाएंगी

हरिद्वार से दिल्ली जाने वाली बसें नीलधारा गौरीशंकर बस अड्ड़े से चंदक, मंडावली, बिजनौर, मीरापुर, रामराज मवाना से होते हुए मेरठ में गंगानगर के रास्ते से प्रवेश करेंगी। मेरठ को अंदर से पार करते हुए मोदीनगर होते हुए पुराने रूट से दिल्ली पहुंचेंगी। मोदीनगर रूट पर अधिक कांवड़िये होने पर मेरठ से बसों को किठौर, हापुड़, पिलखुवा, गाजियाबाद से दिल्ली ले जाया जाएगा। दिल्ली से आने वाली बसों को हापुड़, किठौर, मवाना, रामराज, बिजनौर के रास्ते से हरिद्वार लाया जाएगा।

यात्रीगण कृपया ध्यान दें

शिमला,ऋषिकेश, देहरादून के लिए मोतीचूर में अड्ड़ा बनाया गया है। ऋषिकेश, बिजनौर, हल्द्वानी, नैनीताल, मेरठ, दिल्ली की बसों के लिए चंडीघाट के पास नीलधारा गौरीशंकर पार्किंग में रोडवेज बस स्टैंड बनाया गया है।