हल्द्वानी- राज्य के मेडिकल कॉलेजों में पढ़ाई कर रहे है तो जान ले ये खास बात, नहीं तो होगी कार्रवाई

67
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: डीजी मेडिकल हैल्थ तारा चन्द्र पंत द्वारा आज नगर के बेस अस्पताल का दौरा किया गया। इस दौरान उन्होंने अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड का निरीक्षण करते हुए अन्य वार्ड़ों में भर्ती मरीजों से बात की। साथ ही अस्पताल परिसर में मिलने वाली सुविधाओं और खामियों को भी मरिजों के माध्यम के जाना। निरीक्षण के दौरान उन्होंने अस्पताल में जल्द ही आईसीयू खोले जाने की बात कही हैं।

सरकारी अस्पतालों में देंगे सेवाएं

अस्पताल के दौरे पर पहुंचे डीजी पंत ने अस्पताल अधीक्षक एसबी औली से अस्पताल में चिकित्सकों की उपलब्धता की लिस्ट मांगी। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों की कमी के चलते सरकारी अस्पतालों में चिकित्सकों के पद खाली चल रहे हैं। साथ ही राज्य के मेडिकल कॉलेजों में पढक़र पास होने वाले डॉक्टरों के लिये अब नियम सख्त कर दिये गये हैं। यह डॉक्टर पहले बांड तोडक़र राज्य से बाहर चले जाते थे लेकिन अब नियम सख्त किये जाने के बाद यह चिकित्सक राज्य के सरकारी अस्पतालों में अपनी सेवायें देंगे जिससे अस्पतालों में चिकित्सकों की कमी पूरी हो जायेगी।

जानकारी मुताबिक प्रदेश के दो मेडिकल कॉलेजों से 200 नये डाक्टरों को नियुक्तियां मिल गई है। सरकार द्वारा पीजी कराने को लेकर भी उनसे करार किया गया है। अगर समय रहते वो अपने मूल तैनाती पर नही गये तो उनके ऊपर 30 लाख से लेकर 1 करोड रूपये तक की पैलाल्टी लगाई जायेगी साथ ही उनका लाइसेन्स भी कैसिंल किया जायेगा। डीजी पंत ने कहा कि बेस अस्पताल में जल्द ही आईसीयू खोल दिया जायेगा। यही नहीं राज्य के अन्य कई सरकारी अस्पतालों में भी आईसीयू खुलेंगे। सामाजिक कार्यकर्तों द्वारा डीजी हैल्थ के समक्ष अस्पताल में कार्डियोलॉजिस्ट तैनात किये जाने की मांग की जिस पर डीजी हैल्थ ने हर संभव प्रयास किये जाने का आश्वासन दिया।