हल्द्वानी- दूसरों का GST नंबर चोरी करके करता था कारोबार, आज पकड़ में आया ये 420

284
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: सरकारी विभागों की आखों में धूल झोककर इलेक्ट्रोनिक कांटो का कारोबार करने वाली एक फर्जी फर्म का पर्दाफाश हुआ है। करीब चार महिने से नियम कायदों को ताक में रखकर बरेली रोड स्थित पाल कांपलेक्स के पास डीपीएस(weighing scale system) फर्म के लोग फर्जी तरीके से कारोबर कर नगर के व्यपारियों को चूना लगा रहे थे। महिंद्रा काटा कंपनी के मालिक योगेश त्यागी की शिकायत पर आज बाट और माप विभाग ने इनके खिलाफ छापामार कार्रवाई की है। मामले में डीपीएस के मालिक रामनगर निवासी धीरज उपाध्याय को विभाग ने नोटिस जारी किया है। वही मौके से बरामद 120 अवैध कांटो को अपने कब्जे में लिया है।

जीएसटी नंबर चोरी कर करते थे कारोबार

महिंद्रा काटा कंपनी के मालिक योगेश त्यागी ने आरोप लगाया है कि डीपीएस फर्म के मालिक नगर के अन्य व्यापारियों का जीएसटी नबंर चुराकर कारोबार करते थे। इसका खुलासा तब हुआ जब योगेश के जीएसटी नबंर पर ऐसे बिल इनको प्राप्त हुए जिनकी खरीद इन्होंने नहीं की थी। मामले की झानबीन करने पर पूरा फर्जीवाड़ा सामने आया। जिसके बाद इनके द्वारा इसकी शिकायत बाट और माप विभाग से की गई। जानकारी मुताबिक ये शातिर जीएसटी नंबर की चोरी कांटो की खरीद बीक्री के लिए करते थे। कांटो को रूड़की से खरीदा जाता था। जिसके बाद इन्हें बेचने के लिए ये हल्द्वानी लाते थे। व्यापारी योगेश ने आरोप लयागा कि कांटो को हल्द्वानी लाते समय रोड टैक्स या अन्य कार्रवाई से बचने के लिए ये नगर के अन्य व्यापारियों के फर्जी कागजातों का भी इस्तेमाल करते थे।

188 कांटो के बिल बरामद

नगर के बीचो बीच फलफूल रहे इलेक्ट्रोनिक कांटो की स्मगलिंग का भांडाफोड कर बाट और माप विभाग ने मौके से डीपीएस द्वारा बेचे गए 188 कांटो के फर्जी बिल बरामद किए है। वही मौके से 4 लाख के कांटे भी जप्त किए है। इधर बताया जारहा है कि ये लोग अबतक 50 लाख का अवैध कारोबार कर चुके है। इंस्पेक्टर ललित मोहन पंत ने जानकारी दी कि कार्रवाई के दौरान डीपीएस के मालिक धीरज उपाध्याय कंपनी के जरूरी कागजात नहीं दिखा पाए। वही मौके पर इनके पास फर्म के नाम के रजिस्ट्रेट बिल भी नहीं मिले। जिसके चलते इनके खिलाफ विभाग ने कार्रवाई की है।