हल्द्वानी- BJP नेता की ‘पित्त की थैली’ ने खोली इस नामी Diagnostic Center की पोल, ऐसे डॉक्टर से भगवान बचाए

11440
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: संजय पाठकआज दिन तक आपने दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरों में मेडिकल जांच के नाम पर फर्जीवाड़ा करने वाले Diagnostic सेंटरों के बारे में खूब सुना होगा। लेकिन अब कुमाऊं के द्वार हल्द्वानी में मेडिकल जांच के नाम पर बड़ा खेल करने वाला एक संस्थान बेनकाब हुआ है। आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे कि इस Diagnostic Center में जांच के दौरान शरीर में वह अंग भी आ गया , जो शरीर में मौजूद ही नही था। खबर सुनकर आपका माथा ठनक गया होगा। यकीन मानिए , लेकिन यह बात सौ फीसदी सच है।

चंदन डायग्नोस्टिक सेंटर की पहली रिपोर्ट जिसमें बीजेपी नेता राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता के शरीर में पित्त की थैली होना बताया गया

पित्त की थैली ने खोली ‘जांच‘ की पोल

बीते दिनों हल्द्वानी भाजपा के कोषाध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता अपने बेहतर स्वास्थ्य की खातिर फुल बॉडी चैकअप के लिए हीरानगर क्षेत्र में केवीएम स्कूल के पास स्थित Chandan Diagnostic Center पहुंचे। जहाँ ब्लड सैंपल देने के बाद जब अगले दिन जांच रिपोर्ट आई तो राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता का माथा चकरा गया। दरअसल फुल बॉडी चैकअप के नाम पर चंदन डॉयग्नोस्टिक सेंटर ने ऐसी रिपोर्ट सामने रख दी थी , जिसे देखकर ऐसा होना लाजिमी था।

वहीं कुछ ही मिनटों के बाद बीजेपी नेता के शरीर से पित्त की थैली गायब कर दी गई, वाह रे ! चंदन डॉयग्नोस्टिक सेंटर

दरअसल जांच के नाम पर Chandan Diagnostic Center ने राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता को दी रिपोर्ट में बताया कि उनकी पित्त की थैली यानि गॉलब्लेडर पूरी तरह से सामान्य और स्वस्थ है। जबकि राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता ने साल 1990 में ही अपने गॉलब्लेडर का आपरेशन कर उसे निकलवा दिया था।

बीजेपी नेता राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता ने डीएम विनोद कुमार सुमन से Chandan Diagnostic Center के जांच के नाम पर बड़े खेल की जांच की मांग की है

ऐसे में फुल बॉडी चैकअप के नाम पर Chandan Diagnostic Center द्वारा किए गए खिलवाड़ की भनक लगते ही उन्होंने जब प्रबंधन से शिकायत की तो संस्थान में हड़कंप मच गया। अपनी चोरी पकड़ी जाने पर डॉयग्नोस्टिक सेंटर्स के संचालक ने राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता से कहा कि यह रिपोर्ट गलती से किसी दूसरे पैसेंट की लग गई है। और आनन-फानन में उन्हें दूसरी रिपोर्ट पकड़ा दी गई जिसमें एडिटिंग के माध्यम से यह लिख दिया गया कि पैसेंट की पित्त की थैली नही पाई गई।

डीएम साहब ! चंदन की ‘जांच’ पर कब आएगी ‘आंच’

उधर इस प्रकरण की शिकायत बीजेपी नेता राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता द्वारा जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन से की गई है। डीएम के द्वारा 15 दिन के भीतर जांच का भरोसा दिया गया है। फिलहाल लोगों के स्वास्थ्य से जुड़े इस गंभीर मामले को डीएम साहब की जांच का इंतजार है। इस पूरे प्रकरण के सामने आने के बाद हल्द्वानी के इस नामी डॉयग्नोस्टिक सेंटर की कार्यप्रणाली की पोल खुल कर सामने आ गई है, कैसे बिना जांचे परखे मरीजों को जांच रिपोर्ट थमा दी जाती है।

वहीं इस मामले ने पवित्र डॉक्टरी पेशे की आड़ में चल रहे संस्थानों की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठा दिए हैं। बता दें कि हल्द्वानी के कई नामी डॉक्टर्स और अस्पताल , अपने मरीजों को इसी चंदन डॉयग्नोस्टिक सेंटर में जांच के लिए रेफर करते हैं। ऐसे में फुल बॉडी चैकअप के नाम पर जांच के इस ‘बड़े खेल’ ने शहर में हर आमोखास के माथे पर बल ला दिए हैं।