haldwani-किडनी डे- कैसे रखें किडनी सुरक्षित बृजलाल अस्पताल में दी गयी यह सलाह

494
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

हल्द्वानी – newstodaynetwork
दुनिया भर में किडनी के पीड़ितों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। ऐसी क्रिटीकल बीमारी से बचा जा सकता है लेकिन जन जागरूकता काफी जरूरी है। हल्द्वानी के बृजलाल अस्पताल में वल्र्ड किडनी डे पर किडनी की बीमारी से बचने के लिए जागरूकता और निःशुल्क जांच शिविर लगाया गया है। यहां सौ से ज्यादा मरीजों ने खून जांच करायी गयी है। महिला दिवस पर आज महिलाओं को जागरूक करने के लिए डाॅक्टरों के द्वारा यह टिप्स दियें गये।

kidney transplant at Haldwani's Brijlal Hospital
किडनी पर कैसे होता है असर

फोर्टिस अस्पताल के नेफ्रॉलजी विभाग के डाॅक्टर तन्मय पांड्या ने बताया कि अब तक पुरूषों में यह बीमारी ज्यादा देखने को मिल रही थी लेकिन अब महिलाओं में भी यह बीमारी काफी देखी जा रही है। उन्होेंने उदाहरण देते हुए कहा कि महिलायें अक्सर ट्रेन, बस या फिर अपने वाहन से सफर करती है लेकिन पेशाब आने पर शर्म के कारण पेशाब रोक लेती है इसका उनकी किडनी पर विपरीत असर होता  हैं। घण्टों पेशाब रोकने का असर उनकी किडनी पर पड़ता है। इसीलिए महिलाओं को खास तौर पर उन्होंने बताया कि पेशाब को घण्टों रोके नही बल्कि पेशाब आने पर यूरिन पास करें जिससे किडनी सुरक्षित रहेंगी।
पीने के पानी की मात्रा काफी कम लेना
हाईबल्ड प्रेशर
ज्यादा मांस मछली खाना
ज्यादा पेनकिलर लेना
पर्याप्त आराम न करना
साॅफ्ट ड्रिंक्स व सोडा अधिक मात्रा में लेना

बृजलाल अस्पताल के निदेशक डाॅ0 अजय पाल ने बताया कि किडनी से पीड़ित मरीजो का इलाज यही पर संभव है , यहाँ opd के साथ साथ डायलिसिस भी कराई जा सकती है . इसके साथ साथ यदि किडनी ख़राब हो गई है तो  किडनी की ट्रांसप्लांट भी कराई जा सकती है.

क्या होता है किडनी में 

जब हमारी किडनी की कार्य क्षमता कमजोर हो जाती है अर्थात वो सही ढंग से काम नहीं कर सकती, ऐसे में विषैले पदार्थ शरीर से बाहर नहीं निकलते, जिसके कारण क्रिएटिनिन और यूरिया जैसे पदार्थ की अधिकता होने से हमें कई प

उपस्थित डाक्टर

रेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में हम मशीनों की सहायता से अपने खून को साफ़ करते हैं, जिसे किडनी डायलिसिस कहा जाता है। जब रोगी का गुर्दा (किडनी) सही दंग से काम नहीं करता, अधिक समय से डायबिटीज हो या फिर उच्च रक्तचाप हो तब हमें डायलिसिस की आवश्कता पडती है। इसका सब कुछ इलाज अब हल्द्वानी में ही मिल सकता है ..

इस अवसर पर उपस्थित डाक्टारो में  डा अमरपाल, डा जाधव ,डा नीरव राव थे ,