यूपी में अब नहीं होंगी फाटक रहित क्रासिंग पर रेल दुर्घटनाएं, केंद्र सरकार का बड़ा फैसला

67
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

लखनऊ-न्यूज टुडे नेटवर्क : कुशीनगर जिले में फाटक रहित क्रासिंग पर स्कूल वैन के ट्रेन की चपेट में आने से हुए बच्चों की मौत की पृष्ठभूमि में रेलवे अब ऐसी क्रासिंग पर सेवानिवृत्त जवानों और होमगार्ड जवानों को लगाने की तैयारी कर रहा है, ताकि कुशीनगर जैसी दुर्घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो। रेलवे ने कहा है कि 31 मार्च, 2020 तक बिना कर्मचारी वाले सभी रेलवे फाटक को समाप्त कर दिया जायेगा। उन्होंने साथ ही इस बात पर जोर दिया कि इस तरह के हादसों को लेकर प्राथमिक जिम्मेदारी रेलवे की नहीं, बल्कि सडक़ का इस्तेमाल करने वाले लोगों की है।

railway_crossing

होगी सेवानिवृत्त जवानों व होमगार्ड की तैनाती

एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने आए रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि अव्वल तो फाटक क्रासिंगों को बंद करने पर रेलवे गंभीरता से विचार कर रहा है, लेकिन फिलहाल दुर्घटनाओं को रोकने के लिए गेट मित्र लगाने का फैसला किया गया है। अक्टूबर के अंत तक जो फाटक रहित क्रासिंग बच जाएंगे, वहां हम सेवानिवृत्त जवानों और होमगार्ड की तैनाती पर विचार कर रहे हैं।

manoj-sinha

स्थानीय लोगों की भी होगी क्रासिंग पर तैनाती

उन्होंने कहा कि जवानों की अनुपब्धता की स्थिति में स्थानीय लोगों को ऐसी क्रासिंग पर तैनात किया जाएगा। सिन्हा ने कहा कि जौनपुर और पूरे उत्तर प्रदेश में 1947 से 2014 तक रेलवे की विभिन्न परियोजनाओं पर जितना व्यय हुआ होगा, उससे ज्यादा कार्य 2014 से 2018 के बीच मौजूदा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देश पर किया गया है।