इस वजह से यहां महिलाएं 3 महीने के लिए हो जाती है विधवा, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

35
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

लखनऊ- न्यूज टुडे नेटवर्क : कोई भी समाज हो, स्त्री का विधवा होना एक दयनीय दृष्टि से देखा जाता है, उस पर लांछन भी लगाए जाते है और ये एक महिला के लिए काफी दुखद स्थिति है। भारतीय महिलाओं के लिए तो पति ही परमेश्वर है। भारत में महिलाएं अपने पति की दीर्घायु के लिए न जाने कितने व्रत रखती हैं। यह प्रथा आज से नहीं बल्कि पौराणिक काल से चली आ रही है। भारत में नारियां अपने सुहाग के लिए सौलह श्रंगार करती है पर आपको जानकर हैरानी होगी भारत में एक ऐसी जगह है जहां महिलाएं अपने पति की दीर्घायु के सालभर में तीन महीने विधवाओं के जैसे रहती हैं।

vido4

तीन महीने तक रहती है विधवा

इस प्रथा के अनुसार महिलाएं अपने सुहाग की लम्बी आयु के लिए तीन महीनों तक कोई श्रृंगार नहीं करतीं और विधवाओं जैसा कष्ट भरा जीवन जीतीं हैं। उत्तर प्रदेश के दवरिया जिले के बेलवाड़ा में महिलाएं हर साल तीन महीने का मातम मानती है।

vido3

छाया रहता है मातम

इन तीन महीनों तक एक अजीब सी खामोशी पूरे गांव में पसरी रहती है और हर तरफ मातम का माहौल छाया रहता है। इस गांव में मई से जुलाई तक सन्नाटा और मातम सा पसरा रहा है। महिलाएं अपने जीवित पति के मरने जैसा गम मानती है और एक-दूसरे का दु:ख भी इस महिलाएं साझा करती है।