देहरादून- पंचेश्वर बांध को लेकर सीएम त्रिवेन्द्र से मिले अधिकारी, सुनाई ये 3 ‘गुड न्यूज’

299
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

देहरादून- न्यूज टुडे नेटवर्क: वाप्कोस लिमिटेड द्वारा उत्तराखण्ड में 21 घाटों का निर्माण दिसम्बर 2018 तक पूरा कर लिया जाएगा। इसके साथ ही 15 लघु पन बिजली परियोजनाओं पर तीव्र गति से कार्य चल रहा है, जिन्हें शीघ्र ही पूरा कर लिया जाएगा। रिस्पना और बिन्दाल नदियों पर बाढ़ सुरक्षा कार्यो की डीपीआर अन्तिम चरण में है।

सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मिलकर वाप्कोस लिमिटेड के अधिकारियों ने पंचेश्वर बांध को लेकर चर्चा की

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में वाप्कोस लिमिटेड (जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय भारत सरकार का उपक्रम) के अधिकारियों ने भेंट के दौरान जानकारी दी कि उत्तराखण्ड राज्य में भारत-नेपाल सीमा पर बनने वाली बहुउद्देशीय विद्युत परियोजना पंचेश्वर बांध की डीपीआर तैयार कर ली गई है। फोरेस्ट व इन्वायरमेन्टल क्लियरेन्स के अन्य कार्य प्रगति पर हैं। परियोजना के प्रति स्थानीय लोगों में उत्साह है। क्षेत्रवासियों को विश्वास है कि विस्थापन सुखद होगा।

परियोजना के ये होंगे फायदे

परियोजना का लाभ बिजली उत्पादन व एक बडे़ क्षेत्र की सिचाई के अतिरिक्त ऊधमसिंह नगर जिले में ग्रेविटी बेस्ड जलापूर्ति के लिए भी होगा। सीएम त्रिवेन्द्र ने वाप्कोस लिमिटेड को उत्तराखण्ड सरकार की ओर से हर संभव सहयोग व सहायता का आश्वासन दिया। बैठक में वाप्कोस लिमिटेड के अनुपम मिश्र व अन्य अधिकारी उपस्थित थे।