तुलसी के साथ भूलकर भी न करें ये गलती, जा सकती है आपकी जान…

62
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : हिन्दू धर्म में तुलसी को मां लक्ष्मी का रूप मानकर घर के आंगन में पूज्यनीय स्थान दिया जाता है। लेकिन इसके अलावा भी तुलसी के वैज्ञानिक व आयुर्वेद की दृष्टि से कई लाभ मिलते हैं, इसलिए तुलसी का पौधा स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। प्राय: देखा जाता है कि हिन्दू धर्म में शुभ-अशुभ का सिलसिला तो निरंतर ही लगा रहता है। हर छोटी-छोटी चीज में शुभ-अशुभ को माना जाता है। लेकिन, अनजाने में भी अगर आपने तुलसी के साथ गलतियां कर दीं, तो आपकी जान भी जा सकती है।

tulsi (1)

तुलसी के पौधे को घर के अंदर न लगाएं

कहा जाता है कि तुलसी के पति की मृत्यु के बाद भगवान विष्णु ने तुलसी को अपने प्रिय राधा की तरह माना था। इसलिए तुलसी ने उनसे कहा था कि उनके घर जाना चाहती हैं। लेकिन भगवान विष्णु ने उन्हें मना कर दिया और कहा कि मेरा घर लक्ष्मी के लिए है, लेकिन मेरा दिल तुम्हारे लिए है तुलसी ने कहा, कि घर के अंदर न सही बाहर तो स्थान मिल सकता है। जिसे भगवान विष्णु ने मान लिया और तभी से आज तक तुलसी का पौधा घर और मंदिर के बाहर ही लगाया जाता है। घर के अंदर तो भूलकर भी नहीं लगाया जाता है। सुबह और शाम दोनों समय, तुलसी मां के सामने दिया जरूर प्रज्‍वलित करें। दिया मिट्टी का हो तो सबसे अच्‍छा है । दिवाली के दिन तुलसी के समक्ष चौमुहां दीपक जलाना शुभ माना जाता है ।

tulasi-vivah

गलत समय में ना तोड़ें तुलसी की पत्तियां

शास्त्रों के अनुसार तुलसी की पत्ती कुछ खास दिनों में नहीं तोडऩी चाहिए वह दिन है एकादशी, रविार का दिन और सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण का दिन है। इन दोनों दिनों में और रात के समय तुलसी के पत्ते भूलकर भी न तोड़ें और आपको बता दें कि बिना उपयोग तुलसी पत्ते कभी नहीं तोडऩे चाहिए, ऐसा करने पर व्यक्ति को दोष लगता है, अनावश्यक रूप से तुलसी के पत्ते को तोडऩा तुलसी का अपमान के समान माना गया है। तुलसी के पत्ते तोडऩे से मृत्यु का श्राप मिलता है। अकारण पत्तियां तोड़कर पाप के भागी ना बने । सेहत खराब हो तब और किसी धार्मिक अनुष्‍ठान के लिए तुलसी की पत्तियों को तोड़ना उचित माना जाता है।

 

तुलसी का पौधा सूख जाए तो ? 

तुलसी का पौधा सूख जाए तो उसे घर में रखने की बजाय बहते पानी में प्रवाहित कर दें । तुलसी में देवीय शक्ति होती है, इसे देवी की तरह पूजा जाता है, इसलिए इसके पौधे के सूखने पर इसे नदी की बहती धारा में बहा देना चाहिए । तुलसी को बहाने से आप अपने घर के ऊपर लगे नजर दोष से भी बच जाते हैं ।