दो दिवसीय अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों का सम्मेलन गुजरात में 25 व 26 नवंबर को

न्यूज टुडे नेटवर्क। गुजरात में दो दिवसीय अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन का आयोजन 25 नवंबर से किया जाएगा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने यह जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि इस वर्ष विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका का सद्भावपूर्ण समन्वय-जीवंत लोकतंत्र की कुंजी। विषय पर सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। बताया कि राष्ट्रपति रामनाथ
 | 
दो दिवसीय अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों का सम्मेलन गुजरात में 25 व 26 नवंबर को

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। गुजरात में दो दिवसीय अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्‍मेलन का आयोजन 25 नवंबर से किया जाएगा। लोकसभा अध्‍यक्ष ओम बिड़ला ने यह जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि इस वर्ष विधायिकाकार्यपालिका और न्यायपालिका का सद्भावपूर्ण समन्वय-जीवंत लोकतंत्र की कुंजी। विषय पर सम्‍मेलन आयोजित किया जा रहा है। बताया कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे।

Devi Maa Dental

यह सम्‍मेलन गुजरात के केवड़िया में सम्‍पन्‍न होगा। दो दिवसीय सम्‍मेलन में देश भर से पीठासीन अधिकारी की जिम्‍मेदारी निभाने वाले कार्मिक व अफसर भाग लेंगे। यह सम्‍मेलन 25 व 26 नवंबर को आयोजित किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी सम्‍मेलन के समापन सत्र को 26 नवंबर को संबोधित करेंगे।

बिड़ला ने कहा कि संवैधानिक पवित्रता को बनाए रखने के लिए यह हमारा सामूहिक प्रयास है, जो देश में शासन के तीनों अंगों और लोकतंत्र के निर्वहन के बीच आपसी सह-अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि विभिन्न सत्रों में पीठासीन अधिकारी विचारों का आदान-प्रदान करने के साथ ही सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करेंगे। उन्होंने बताया कि संसद और विधानसभाओं की कार्यवाही को और अधिक लाभकारी बनाने के तरीकों पर भी चर्चा की जाएगी। 26 नवंबर संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित करेंगे।

Bansal Saree