newstodaynetwork Banner

उज्‍जेन: भूगर्भीय हलचल के चलते हो रहे है शिप्रा में धमाके, धमाके के बाद 10 फिट तक उछला पानी, किसी आपदा की चेतावनी या कुछ और

न्यूज टुडे नेटवर्क। उज्जैन मध्यप्रदेश में शिप्रा नदी के त्रिवेणी घाट पर कुछ दिनों से तेज धमाकों के बाद आग की लपटें निकल रही हैं। इसके बाद से इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है। नदी में धमाके कई दिनों से हो रहे हैं। इन धमाकों की वजह भूगर्भीय हलचल को बताया जा रहा
 | 
उज्‍जेन: भूगर्भीय हलचल के चलते हो रहे है शिप्रा में धमाके, धमाके के बाद 10 फिट तक उछला पानी, किसी आपदा की चेतावनी या कुछ और

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। उज्जैन मध्‍यप्रदेश में शिप्रा नदी के त्रिवेणी घाट पर कुछ दिनों से तेज धमाकों के बाद आग की लपटें निकल रही हैं। इसके बाद से इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है। नदी में धमाके कई दिनों से हो रहे हैं। इन धमाकों की वजह भूगर्भीय हलचल को बताया जा रहा है। वहीं, उज्जैन के कलेक्टर ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही धमाके वाले स्थल के पास 2 पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है। पुलिस कर्मियों ने भी अपनी आंखों से नदी में कई बार धमाका होते देखा है।

Devi Maa Dental

धमाकों के बाद से उस इलाके में लोगों को जाने से रोक दिया गया है। दरअसल, शिप्रा नदी के त्रिवेणी स्टॉपडेम के पास स्थित नए घाट के सामने नदी में तेज धमाके हो रहे हैं। इन धमाकों के बाद से नदी से आग और धुआं भी निकल रहा है। रुक रुककर हो रहे धमाकों से ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है। नदी में भूगर्भीय हलचल और हो रहे विस्फोटों को देखते हुए उज्जैन के कलेक्टर आशीष सिंह ने चिंता जाहिर की है।

जिलाधिकारी उज्‍जेन ने बताया कि जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इण्डिया का दल और भूगर्भ वैज्ञानिकों से भी इस विषय में चर्चा की जा रही है। जांच के लिए शीघ्र ही विशेष टीमें घटनास्‍थल पर पहुंच रही है। इसके साथ ही यहां से पानी के सैंपल भी लिए गए हैं। बताया जा रहा है कि नदी में पहली बार स्थानीय लोगों ने 26 फरवरी को धमाके की तेज आवाज सुनी थी अब लगातार शिप्रा नदी में हो रहे धमाकों से ग्रामीणों में दहशत फैली हुई है।

Bansal Saree

पैट्रोलियम या गैस भण्‍डारण भी हो सकता है कारण

भूगर्भ वैज्ञानिकों की मानें तो जमीन के अन्‍दर पैट्रोलियम और गैस भंडार के कारण ऐसी घटनायें होती रहती है। जब यह गैस बाहर निकलती है तो धमाके की तेज अवाज होती है और  कभी-कभी आग भी दिखाई देती है। भूगर्भीय हलचल से भी इंकार नहीं किया जा सकता है।