सिम कार्ड सत्यापन के लिए आधार कार्ड के साथ अब ये भी जरूरी, जाने क्या है खास

105
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: सिम कार्ड खरीदते वक्त अब आधार कार्ड के साथ आपके चेहरे के मिलान करने की प्रक्रिया 15 सितंबर से अमल में लाई जाएगी। सिम कार्ड सत्यापन के लिए ई केवाईसी के दौरान अब आपके चेहरे का मिलान भी किया जाएगा। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) के निर्देश पर दूरसंचार कंपनियां इसकी शुरुआत करेंगी।

महीने में 10 प्रतिशत सत्यापन जरूरी

यूआईडीएआई ने इससे पहले चेहरा पहचानने का फीचर एक जुलाई से लागू करने की योजना बनाई थी, जिसे बाद में बढ़ाकर एक अगस्त और अब 15 सितंबर किया गया है। इसके तहत सिम कार्ड के लिए आवेदन के साथ लगाए गए फोटो को संबंधित व्यक्ति का कंपनी के आउटलेट पर तत्काल ली गई तस्वीर से की जाएगी। जानकारी मुताबिक दूरसंचार कंपनियों के अलावा अन्य सत्यापन एजेंसियों के लिए चेहरा पहचानने की सुविधा के निर्देश बाद में जारी किए जाएंगे।

लाइव फेस फोटो को ईकेवाईसी फोटो से मिलाने का निर्देश सिर्फ उन्हीं मामलों जरूरी होगा जिनमें सिम जारी करने के लिए आधार का इस्तेमाल किया जा रहा हैं। यूआईडीएआई ने तय समय में इस लक्ष्य को पूरा नहीं करने वाली दूरसंचार कंपनियों पर जुर्माना लगाने का भी प्रस्ताव किया है। कंपनियों को महीने में कम से कम 10 प्रतिशत सत्यापन चेहरे का लाइव (सीधे) फोटो से मिलान करना अनिवार्य होगा, अन्यथा प्रति सत्यापन 20 पैसे का जुर्माना लगाया जाएगा।

गड़बड़ी या क्लोनिंग रोकने के लिए उठाया कदम

यूआईडीएआई ने कहा कि यह कदम फिंगरप्रिंट में गड़बड़ी की आशंका खत्म करने या उसकी क्लोनिंग रोकने के लिए उठाया गया है। इससे सिम जारी करने और उसे एक्टिव करने की ऑडिट प्रक्रिया और सुरक्षा को मजबूत किया जा सकेगा।