नई दिल्ली- इतिहास में पहली बार हाईकोर्ट की निगरानी होगा ये “स्पेशल” कबड्डी मैच, आज देखना जरूर

145
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: भारतीय खेलों के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा कि हाइकोर्ट की निगरानी में इंदिरा गांधी स्टेडियम में 15 सितंबर को कबड्डी मैच खेला जाएगा। यह मुकाबला उन पुरुष और महिला खिलाड़ियों के बीच में खेला जाएगा जिन्होंने 18वें एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया और जिन्हें इन खेलों के लिए टीम में नहीं चुना गया था।

क्या था हाइकोर्ट का आदेश

हाइकोर्ट ने 2 अगस्त के अपने आदेश में कहा था कि 15 सितम्बर 2018 की सुबह 11 बजे चयन प्रक्रिया को आयोजित किया जाएगा। पीठ ने दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश (सेवानिवृत्त) एस.पी गर्ग को खेल एवं युवा मंत्रालय के एक अधिकारी के साथ चयन का पर्यवेक्षक नियुक्त किया। इस मैच की बकायदा रिकॉर्डिंग की जाएगी जो अदालत में बतौर साक्ष्य पेश की जाएगी और इसी वीडियो फुटेज के आधार पर अदालत अपना फैसला लेगी।

पूर्व कबड्डी खिलाड़ी महीपाल सिंह ने लगाए थे घूस लेने के आरोप

मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजेंद्र मेनन और न्यायमूर्ति वी.के राव की पीठ ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि एशियाई खेलों से लौटने के बाद खेलों के लिए गई भारतीय टीम (महिला एवं पुरुष) का मैच उन खिलाड़ियों से होगा जो राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं बना पाए थे। दरअसल, एशियाई खेलों के लिए भारतीय कबड्डी टीमों के रवाना होने से पहले पूर्व कबड्डी खिलाड़ी महीपाल सिंह ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था और उन्होंने एमेच्योर कबड्डी महासंघ (एएफकेआई) पर घूस लेकर खिलाड़ियों के चयन का आरोप लगाया था। इसके बाद अदालत ने निर्णय लिया कि खेलों के समापन के बाद एक मैच का आयोजन किया जाएगा ताकि यह पता चल पाए कि खिलाड़ियों के चयन के मामले में महिपाल सिंह के आरोप सही हैं या नहीं।

टीम को है हार का डर

ऐसे में आज होने वाले मुकाबले में न्यायाधीश (सेवानिवृत्त) गर्ग भी स्टेडियम में मौजूद रहेंगे। याचिकाकर्ता महिपाल सिंह के वकील बी.एस नागर ने कहा कि यह मुकाबला उन पुरुष और महिला खिलाड़ियों के बीच होगा जिन्होंने एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया था और जिन्हें टीम का हिस्सा नहीं बनाया गया था। टीम का हिस्सा नहीं बनाए गए खिलाड़ी वहीं होंगे जिन्होंने राष्ट्रीय शिविर में भाग लिया था। आदेश में यह नहीं कहा गया कि एशियाई खेलों की टीम का हिस्से रहने वाले खिलाड़ियों का मैच में भाग लेना अनिवार्य हैं, इसे खिलाड़ियों के विवेक पर छोड़ दिया गया है।

वकील बी.एस नागर के मुताबिक खिलाड़ी इससे बचने की कोशिश कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों ने 31 अगस्त को कहा था कि इस मुकाबले से उनकी प्रतिष्ठा पर फर्क पड़ेगा। वे मैच को टालने की कोशिश कर रहे हैं और यह कह रहे हैं कि इसमें उनकी गलती नहीं है। टीम को डर है कि कहीं एक गुमनाम टीम उन्हें हरा ना दे।