देहरादून: भारतीय सेना का हिस्सा बने IMA के 383 जांबाज , 74 विदेशी कैडेट भी हुए पास आउट

563
Facebooktwittergoogle_pluspinterest

देहरादून- न्यूज टुडे नेटवर्क: देश सेवा के जज्बे और जूनुन से लबरेज 457 जेंटलमैन कैडेट जब ड्रिल स्क्वायर पर पहुंचे, तो दर्शक दीर्घा में बैठे हरेक शख्स के भीतर ऊर्जा का संचार भर उठा। शनिवार को भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) में अंतिम पग भरते ही 383 नौजवान भारतीय सेना का हिस्सा बन गए। इसके साथ ही 74 विदेशी कैडेट भी पास आउट हुए। नेपाल के सेना प्रमुख जनरल राजेन्द्र छेत्री ने दीक्षांत परेड की सलामी ली।

सुबह करीब 6 बजकर 35 मिनट पर मार्कर्स कॉल के साथ परेड का आगाज हुआ। कंपनी सार्जेंट मेजर शुभम सेहरावत, निर्मल सिंह, दिपेंद्र परमार, हर्ष प्रताप, सतेंद्र कुमार, कुणाल किशोर सिंह, प्रदीप सुबैया व नितेश ठाकुर ने ड्रिल स्क्वायर पर अपनी-अपनी जगह ली। एडवांस कॉल के साथ ही छाती ताने मां भारती के वीर सपूत कदम बढ़ाते परेड के लिए पहुंचे। इसके बाद परेड कमांडर आदित्य निखरा ने ड्रिल स्क्वायर पर जगह ली। इधर, युवा सैन्य अधिकारी अंतिम पग भर रहे थे, तो वहीं आसमान से हेलीकाप्टरों के जरिये उन पर पुष्प वर्षा हो रही थी।

परेड की सलामी लेने के बाद नेपाल के सेना प्रमुख ने कैडेट्स को ओवरऑल बेस्ट परफॉरमेंस व अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा। इस दौरान आरट्रैक कमांडर ले जनरल मनोज मुकुंद नरवाने,आइएमए के कमान्डेंट ले. जनरल एसके झा, डिप्टी कमान्डेंट मेजर जनरल जेएस नेहरा समेत कई सेवारत व सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी मौजूद रहे।

इन वीर सपूतों पर है IMA को नाज

स्वार्ड आफ आनर- सचिन कुमार चाहर

स्वर्ण पदक- आदित्य निखरा

रजत पदक- आतिश सहगल

कांस्य पदक- कुलदीप नानासाहेब पंवार

रजत पदक टेक्निकल ग्रेजुएट- रोहित दिलीप पटवर्धन

सर्वश्रेष्ठ विदेशी कैडेट – बुखोरी सायदुलोव

IMA से निकले देश – विदेश के ये वीर सपूत

आइएमए की पासिंग आउट परेड में सर्वाधिक 63 कैडेट उत्तर प्रदेश के हैं। वहीं, उत्तराखंड के 33, हरियाणा के 49, बिहार के 35,पंजाब के 29, हिमाचल प्रदेश व महाराष्ट्र के 22-22, राजस्थान के 20, जम्मू-कश्मीर के 17, मध्य प्रदेश के 14, पश्चिम बंगाल के 12, तमिलनाडु के 09, कर्नाटक व झारखंड के 8-8, मणिपुर व दिल्ली के 7-7, केरल के 5, आंध्र प्रदेश के 03, तेलंगना व असम के 4-4, उड़ीसा के 3, मिजोरम व चंडीगढ़ के 2-2, गुजरात, छत्तीसगढ़, मेघालय, नागालैंड व त्रिपुरा के 1-1 कैडेट परेड का हिस्सा बने। विदेशी कैडेटों में अफगानिस्तान के सर्वाधिक 45, तजाकिस्तान के 13, भूटान के 09, लेसोथो के 3, तंजानिया के 2, नाइजीरिया व किर्गिस्तान के 1-1 कैडेट शामिल हुए।